Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

किसी ने हमसे कहा कि सरोवर एक ही होता है इसमें हंस मोती ढ़ूँढ़त

किसी ने हमसे कहा कि सरोवर एक ही होता है इसमें हंस मोती ढ़ूँढ़ता है और बगुला मछली ढ़ूँढ़ता है । तो मैंने जवाब दिया भाई जिसको धनवान बनना है वो मोती ढ़ूँढ़ें और जिसे भुख लगा है वो मछली ढ़ूँढ़ें।।

लेखक :– मनमोहन कृष्ण
तारीख :– 10/08/2024
समय :– 03 : 13 (दोपहर)

21 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
SURYA PRAKASH SHARMA
विजयादशमी
विजयादशमी
Mukesh Kumar Sonkar
बुंदेली दोहे- ततइया (बर्र)
बुंदेली दोहे- ततइया (बर्र)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मदर्स डे
मदर्स डे
Satish Srijan
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
धीरे-धीरे ला रहा, रंग मेरा प्रयास ।
धीरे-धीरे ला रहा, रंग मेरा प्रयास ।
sushil sarna
आशा
आशा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मेंने बांधे हैं ख्बाव,
मेंने बांधे हैं ख्बाव,
Sunil Maheshwari
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
"अक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
Neelam Sharma
*लज्जा*
*लज्जा*
sudhir kumar
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
Sandeep Kumar
पहचान
पहचान
Dr.Priya Soni Khare
अलाव की गर्माहट
अलाव की गर्माहट
Arvina
■ बड़ा सच...
■ बड़ा सच...
*प्रणय प्रभात*
प्रिय विरह
प्रिय विरह
लक्ष्मी सिंह
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
कविता
कविता
Shiva Awasthi
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
भारत ने रचा इतिहास।
भारत ने रचा इतिहास।
Anil Mishra Prahari
3581.💐 *पूर्णिका* 💐
3581.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
किसे फर्क पड़ता है
किसे फर्क पड़ता है
Sangeeta Beniwal
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
bharat gehlot
याद रक्खा नहीं भुलाया है
याद रक्खा नहीं भुलाया है
Dr fauzia Naseem shad
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
कवि दीपक बवेजा
Loading...