Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2023 · 1 min read

किसी दिन

किसी दिन
हम सारे ग़म
एक संदूक में
बंद कर के
आजाद हो कर
चले दुनिया भर
के लोगों को खुशियाँ
बांटे ……….shabinaZ
दुबई

256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
भोर
भोर
Kanchan Khanna
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
शेर अर्ज किया है
शेर अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
डी. के. निवातिया
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
औरों के संग
औरों के संग
Punam Pande
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
पूर्वार्थ
Untold
Untold
Vedha Singh
2409.पूर्णिका
2409.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अकेले चलने की तो ठानी थी
अकेले चलने की तो ठानी थी
Dr.Kumari Sandhya
सावन म वैशाख समा गे
सावन म वैशाख समा गे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नए साल की नई सुबह पर,
नए साल की नई सुबह पर,
Anamika Singh
इश्क़ का माया जाल बिछा रही है ये दुनिया,
इश्क़ का माया जाल बिछा रही है ये दुनिया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"असल बीमारी"
Dr. Kishan tandon kranti
जिसको दिल में जगह देना मुश्किल बहुत।
जिसको दिल में जगह देना मुश्किल बहुत।
सत्य कुमार प्रेमी
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
कुएं का मेंढ़क
कुएं का मेंढ़क
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा  तेईस
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा तेईस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
ज़िंदगी फिर भी हमें
ज़िंदगी फिर भी हमें
Dr fauzia Naseem shad
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
किसी के टुकड़े पर पलने से अच्छा है खुद की ठोकरें खाईं जाए।
Rj Anand Prajapati
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
Kanchan Alok Malu
Loading...