Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है

किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
जुगनू से आगे जाकरके दीप जलाने निकला है

गूंगों की बस्ती की ज्वाला भड़क रही है भडने दो
सरकारों में आकर के आवाज दबाने निकला है

✍️𝔻𝕖𝕖𝕡𝕒𝕜 𝕤𝕒𝕣𝕒𝕝☑️

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#हिंदी_ग़ज़ल
#हिंदी_ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
आम के छांव
आम के छांव
Santosh kumar Miri
*इस बरस*
*इस बरस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
पूर्वार्थ
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
“एक नई सुबह आयेगी”
“एक नई सुबह आयेगी”
पंकज कुमार कर्ण
I got forever addicted.
I got forever addicted.
Manisha Manjari
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3554.💐 *पूर्णिका* 💐
3554.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*ऊन (बाल कविता)*
*ऊन (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बुझदिल
बुझदिल
Dr.Pratibha Prakash
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
आंखों में भरी यादें है
आंखों में भरी यादें है
Rekha khichi
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
आर.एस. 'प्रीतम'
हर किसी का एक मुकाम होता है,
हर किसी का एक मुकाम होता है,
Buddha Prakash
Jay shri ram
Jay shri ram
Saifganj_shorts_me
"मन" भर मन पर बोझ
Atul "Krishn"
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
Anamika Tiwari 'annpurna '
खुद को पागल मान रहा हु
खुद को पागल मान रहा हु
भरत कुमार सोलंकी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...