Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

किसी औरत से

ऐसे खुलेआम चौराहों पर
नीलाम चढ़ोगी कब तक तुम?
कभी अपनों से-कभी गैरों से
अपमान सहोगी कब तक तुम?
ख़ैर, हम तो नामर्द ही ठहरे
लेकिन तुम तो बगावत कर दो!
इन मूर्दा रस्मों की आग में
ज़िंदा जलोगी कब तक तुम?
#औरत #होलिका_दहन #लड़की
#स्त्री #नारी #महिला #women
#girls #feminist #हल्ला_बोल

Language: Hindi
1 Like · 492 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रत्याशी को जाँचकर , देना  अपना  वोट
प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट
Dr Archana Gupta
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
जानता हूं
जानता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
* सत्य एक है *
* सत्य एक है *
surenderpal vaidya
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
gurudeenverma198
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
Neeraj Agarwal
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
पूर्वार्थ
*धन्य तुलसीदास हैं (मुक्तक)*
*धन्य तुलसीदास हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा-पखा (दाढ़ी के लंबे बाल)
बुंदेली दोहा-पखा (दाढ़ी के लंबे बाल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विद्या देती है विनय, शुद्ध  सुघर व्यवहार ।
विद्या देती है विनय, शुद्ध सुघर व्यवहार ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
1. चाय
1. चाय
Rajeev Dutta
*** मुफ़लिसी ***
*** मुफ़लिसी ***
Chunnu Lal Gupta
मेरी फितरत तो देख
मेरी फितरत तो देख
VINOD CHAUHAN
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
Phool gufran
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
Suryakant Dwivedi
शुभ दीपावली
शुभ दीपावली
Harsh Malviya
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सबक
सबक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भुजरियों, कजलियों की राम राम जी 🎉🙏
भुजरियों, कजलियों की राम राम जी 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
Umender kumar
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
Loading...