Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

किसान का दर्द

बदल गया है फ़ैशन सारा;
बदल गया दुनिया का हाल,
बदला नहीं किसान देश का;
अब भी “बेचारा बदहाल” …

व्यवस्था का जुल्मों-सितम;
क़ुदरत का क़हर पी रहा,
देखों मेरा अन्नदाता;
ख़ुद ज़हर पी रहा…

बिलखती हैं ख़ामोशी
चीख़ता हैं सन्नाटा,
पालनकर्ता माँग रहा हैं;
दो रोटी का आटा…

झेलता ही आया;
हरदम दोहरी फटकार,
एक बादल नहीं बरसता;
दूजा बरसता हैं साहूकार…

देखों क़र्ज़ तले दबी;
एक आत्मा मर रही हैं,
भरी चौपाल में उसकी;
पगड़ी उतर रही है…

कलिकाल का महातमाचा;
लगा मुझे हंसी आई,
बीस रुपये का चैक देखकर;
उसकी आँखें भर आई…

अनब्याही बेटी ने;
दर्द शूल सा दिया हैं,
वो आज उसी की चुनरी से;
पंखे पर झूल गया हैं…

– नीरज चौहान

Language: Hindi
2 Comments · 7181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तुम्हारी हंसी" (Your Smile)
Sidhartha Mishra
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
पुरुष_विशेष
पुरुष_विशेष
पूर्वार्थ
मेहनतकश अवाम
मेहनतकश अवाम
Shekhar Chandra Mitra
जीवन से तम को दूर करो
जीवन से तम को दूर करो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
Anand.sharma
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मर्द रहा
मर्द रहा
Kunal Kanth
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
मुझ को अब स्वीकार नहीं
मुझ को अब स्वीकार नहीं
Surinder blackpen
लहू जिगर से बहा फिर
लहू जिगर से बहा फिर
Shivkumar Bilagrami
Gairo ko sawarne me khuch aise
Gairo ko sawarne me khuch aise
Sakshi Tripathi
ज्ञानों का महा संगम
ज्ञानों का महा संगम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-361💐
💐प्रेम कौतुक-361💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक दिन का बचपन
एक दिन का बचपन
Kanchan Khanna
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
My City
My City
Aman Kumar Holy
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
Dr fauzia Naseem shad
कहीं खूबियां में भी खामियां निकाली जाती है, वहीं कहीं  कमियो
कहीं खूबियां में भी खामियां निकाली जाती है, वहीं कहीं कमियो
Ragini Kumari
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
gurudeenverma198
Loading...