Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2023 · 1 min read

किसान और जवान

चाहे खेतों में हो खड़े किसान
मेहनत से उगाते है अनाज
प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री भी
कर चुके हैं किसानो का सम्मान
वीर जवानों ने बढ़ाया है देश का सम्मान
दुश्मनों का भी नहीं किया है अपमान
अब आगे बढ़ कर किया है वतन को जीवन समर्पित
दिन हो या रात सीमा पर डटे हैं जवान
देश के किसान और जवान दोनों है महान
जय हिंद जय जवान जय किसान

✍️ रचनाकार : संदीप कुमार ( स्नातकोत्तर, राजनीतिक विज्ञान, BBMKU धनबाद)

Language: Hindi
1 Like · 254 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
Ravi Prakash
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मौत क़ुदरत ही तो नहीं देती
मौत क़ुदरत ही तो नहीं देती
Dr fauzia Naseem shad
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*प्रणय प्रभात*
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
DrLakshman Jha Parimal
"लट्टू"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता
कविता
Rambali Mishra
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
Ram Krishan Rastogi
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
2586.पूर्णिका
2586.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
मेरे दिल की गहराई में,
मेरे दिल की गहराई में,
Dr. Man Mohan Krishna
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
प्रथम किरण नव वर्ष की।
प्रथम किरण नव वर्ष की।
Vedha Singh
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
Aarti sirsat
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
Manoj Mahato
हाँ मैन मुर्ख हु
हाँ मैन मुर्ख हु
भरत कुमार सोलंकी
Loading...