Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 1 min read

किसने तेरा साथ दिया है

(शेर)- ये देख रहे हैं इसलिए कि, तोहफा इनको क्या मिलेगा।
कैसे बुझायेंगे प्यास अपनी,जाम इनको कब मिलेगा।।
और मचायेंगे धूम जब मैं, लुटाऊंगा इन पर अपनी दौलत।
ये हो जायेंगे सब गुमनाम, गर्दिश में जब मेरा जीवन मिलेगा।।
——————————————————-
किसने तेरा साथ दिया है, किसने तुमको माना अपना।
जिसको तुमने माना अपना, उसने तुमको माना खिलौना।।
किसने तेरा साथ दिया है———————।।

देखकर तू जो सूरत, दीवाना जिसका ऐसे हुआ है।
क्या खुशी उससे मिली, आबाद क्या उससे हुआ है।।
ताज्जुब है उसी ने काँटों में, सजाया है तुम्हारा बिछौना।
जिसको तुमने माना अपना, उसने तुमको माना खिलौना।।
किसने तेरा साथ दिया है——————।।

मानकर जिसको अपना चमन, खून से सींचा है तुमने।
किया उसी ने खून तुम्हारा, लूटा तुम्हारा चैन उसी ने।।
किया अंधेरा फिर उसी ने, दीपक जिसको तुमने माना।
जिसको तुमने माना अपना, उसने तुमको माना खिलौना।।
किसने तेरा साथ दिया है———————।।

जिसको तू कहता है दोस्त, अपनी जान अपनी खुशी।
दौलत का वह है भूखा, और नकली है उसकी हंसी।।
उसके लिए फिर तू , मिटा रहा है वजूद यह अपना।
जिसको तुमने माना अपना, उसने तुमको माना अपना।।
किसने तेरा साथ दिया है———————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
335 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अधीर मन
अधीर मन
manisha
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
कृष्णकांत गुर्जर
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
? ,,,,,,,,?
? ,,,,,,,,?
शेखर सिंह
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
काला धन काला करे,
काला धन काला करे,
sushil sarna
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
Phool gufran
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
कुछ टूट गया
कुछ टूट गया
Dr fauzia Naseem shad
बच्चों के मन भाते सावन(बाल कविता)
बच्चों के मन भाते सावन(बाल कविता)
Ravi Prakash
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
ढलती हुई दीवार ।
ढलती हुई दीवार ।
Manisha Manjari
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2888.*पूर्णिका*
2888.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
मानव और मशीनें
मानव और मशीनें
Mukesh Kumar Sonkar
अनुभव एक ताबीज है
अनुभव एक ताबीज है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
समय
समय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
*प्रणय प्रभात*
Dr arun कुमार शास्त्री
Dr arun कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
विक्रम कुमार
माँ
माँ
meena singh
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
‘बेटी की विदाई’
‘बेटी की विदाई’
पंकज कुमार कर्ण
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
Loading...