Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 21, 2016 · 1 min read

किताबे-ज़ीस्त का उन्वान हो तुम

किताबे-ज़ीस्त का उन्वान हो तुम
मुझे लगता है मेरी जान हो तुम

मिरी हर बात का मफ़हूम तुमसे
खुदाया अब मेरी पहचान हो तुम

अगर गीता के हैं कुछ पद्य मुझमें
मुक़म्मल सा मिरा क़ुर’आन हो तुम

है जिस पर ज़िंदगी का लम्स बाँधा
उसी की बह्र हम अरकान हो तुम
नज़ीर नज़र

191 Views
You may also like:
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हौसला
Mahendra Rai
बेवफ़ा कहलाए है।
Taj Mohammad
♡ भाई-बहन का अमूल्य रिश्ता ♡
Dr. Alpa H. Amin
मैं मजदूर हूँ!
अनामिका सिंह
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
साथ भी दूंगा नहीं यार मैं नफरत के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
गज़लें
AJAY PRASAD
प्यार
Satish Arya 6800
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
"अशांत" शेखर
बुलंद सोच
Dr. Alpa H. Amin
✍️✍️अतीत✍️✍️
"अशांत" शेखर
*जीवन-साथी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
अनामिका सिंह
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
एकाकीपन
Rekha Drolia
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H. Amin
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
बदल रहा है देश मेरा
अनामिका सिंह
बढ़ती आबादी
AMRESH KUMAR VERMA
दुनिया
Rashmi Sanjay
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
Loading...