Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2016 · 1 min read

किताबे-ज़ीस्त का उन्वान हो तुम

किताबे-ज़ीस्त का उन्वान हो तुम
मुझे लगता है मेरी जान हो तुम

मिरी हर बात का मफ़हूम तुमसे
खुदाया अब मेरी पहचान हो तुम

अगर गीता के हैं कुछ पद्य मुझमें
मुक़म्मल सा मिरा क़ुर’आन हो तुम

है जिस पर ज़िंदगी का लम्स बाँधा
उसी की बह्र हम अरकान हो तुम
नज़ीर नज़र

528 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पार्थगाथा
पार्थगाथा
Vivek saswat Shukla
अगर हो दिल में प्रीत तो,
अगर हो दिल में प्रीत तो,
Priya princess panwar
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ जनादेश की ऐसी-तैसी...
■ जनादेश की ऐसी-तैसी...
*प्रणय प्रभात*
2992.*पूर्णिका*
2992.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ताकि अपना नाम यहाँ, कल भी रहे
ताकि अपना नाम यहाँ, कल भी रहे
gurudeenverma198
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
manjula chauhan
प्रतिस्पर्धाओं के इस युग में सुकून !!
प्रतिस्पर्धाओं के इस युग में सुकून !!
Rachana
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
Phool gufran
*घर की चौखट को लॉंघेगी, नारी दफ्तर जाएगी (हिंदी गजल)*
*घर की चौखट को लॉंघेगी, नारी दफ्तर जाएगी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हे मात भवानी...
हे मात भवानी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आम्बेडकर ने पहली बार
आम्बेडकर ने पहली बार
Dr MusafiR BaithA
हमारा देश
हमारा देश
Neeraj Agarwal
भारत की सेना
भारत की सेना
Satish Srijan
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
Pankaj Kushwaha
संवेदना
संवेदना
Shama Parveen
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Mukesh Kumar Sonkar
मृत्यु शैय्या
मृत्यु शैय्या
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
पुलिस की चाल
पुलिस की चाल
नेताम आर सी
दिल पे पत्थर ना रखो
दिल पे पत्थर ना रखो
shabina. Naaz
"प्लेटो ने कहा था"
Dr. Kishan tandon kranti
दीवाना - सा लगता है
दीवाना - सा लगता है
Madhuyanka Raj
Loading...