Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Sep 2016 · 1 min read

कितने रावण मारे

कितने रावण मारे अब तक
कितने कल संहारे
मन के भीतर के रावण को
क्‍या
अब तक मार सका रे
तेरी अंतर्रात्‍मा षड्-रिपु में
उलझी पड़ी हुई है
इसीलिए यह वसुंधरा
रावणों से भरी हुई है
नगर, शहर क्‍या गली मोहल्‍ले
रावण भरे पड़े हैं
है आतंक इन्‍हीं का चहुँदिश
कारण धरे पड़े हैं
क़़द बढ़ता ही जाता है
हर वर्ष रावणों का बस
राम और वानर सेना की
लंबाई अंगुल दस
बढ़ते शीश रावणों के
जनतंत्र त्रस्‍त विचलित है
भावि अनिष्‍ट विनाश देख
बल, बुद्धि, युक्ति कुंठित है
वो रावण था एक दशानन
हरसू यहाँँ दशानन
नहीं दृष्टि में आते
राम, विभीषण ना नारायण
क्‍या अवतार चमत्‍कारों की
करते रहें प्रतीक्षा
देती हैं रोजाना अब
हर नारी अग्नि परीक्षा
कन्‍या भ्रूण हत्‍या प्रताड़ना
नारी अत्‍याचार
रणचण्‍डी हुंकारेगी
लगते हैं अब आसार
धरे हाथ पर हाथ बैठ
नरपुंगव भीष्‍म बने हैंं
कहाँँ युधिष्ठिर धर्मराज अब
पत्‍थर भीम बने हैं
होता शक्तिहीन नर,
भूला बैठा है
वानर बल
कब गूँजेगा जन निनाद
कब उमड़ेंगे जनता दल
होंगे नरसंहार प्रकृति
सर्जेगी प्रलय प्रभंजन
या नारी की कोख जनेगी
नरसिंह अखिल निरंजन
ऐसा ना हो नर
षड्-रिपु से
निर्बल हो डर जाए
कल का फिर इतिहास
कहीं नारी के नाम न जाए।

Language: Hindi
307 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
View all
You may also like:
तुम तो ख़ामोशियां
तुम तो ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
बरखा रानी
बरखा रानी
लक्ष्मी सिंह
क्या खोया क्या पाया
क्या खोया क्या पाया
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
Bodhisatva kastooriya
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
समय आयेगा
समय आयेगा
नूरफातिमा खातून नूरी
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह विलोकित
Ravi Prakash
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
“
“" हिन्दी मे निहित हमारे संस्कार” "
Dr Meenu Poonia
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
तो क्या तुम्हारे बिना
तो क्या तुम्हारे बिना
gurudeenverma198
इजाज़त
इजाज़त
डी. के. निवातिया
उम्र का लिहाज
उम्र का लिहाज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2301.पूर्णिका
2301.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल  ! दोनों ही स्थितियों में
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल ! दोनों ही स्थितियों में
तरुण सिंह पवार
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बारिश की बूंदे
बारिश की बूंदे
Praveen Sain
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
Taj Mohammad
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
रिद्धि सिद्धि के जन्म दिवस पर
रिद्धि सिद्धि के जन्म दिवस पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-311💐
💐प्रेम कौतुक-311💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंजीर बर्फी
अंजीर बर्फी
Ms.Ankit Halke jha
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
Neeraj Agarwal
Loading...