Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।

कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
चुटकी में हर गम हर लेता, मेरी माँ का आँचल।
सूनी आज निगाहें मेरी, बह गया आँखों का काजल,
कोई लौटा दे आज मुझे फिर, मेरा बचपन माँ का आँचल।

© सीमा अग्रवाल

1 Like · 442 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
"लोगों की सोच"
Yogendra Chaturwedi
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
इक पखवारा फिर बीतेगा
इक पखवारा फिर बीतेगा
Shweta Soni
गुलाम
गुलाम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
दिन भर घूमती हैं लाशे इस शेहर में
दिन भर घूमती हैं लाशे इस शेहर में
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जवाला
जवाला
भरत कुमार सोलंकी
3046.*पूर्णिका*
3046.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
DrLakshman Jha Parimal
फितरत दुनिया की...
फितरत दुनिया की...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
कृष्णकांत गुर्जर
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
बहना तू सबला हो🙏
बहना तू सबला हो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कहाँ जाऊँ....?
कहाँ जाऊँ....?
Kanchan Khanna
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
■ घिसे-पिटे रिकॉर्ड...
■ घिसे-पिटे रिकॉर्ड...
*प्रणय प्रभात*
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
gurudeenverma198
🍁अंहकार🍁
🍁अंहकार🍁
Dr. Vaishali Verma
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
Ram Krishan Rastogi
टीस
टीस
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
मिलन
मिलन
Dr.Priya Soni Khare
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
शेखर सिंह
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...