Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2023 · 1 min read

कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है

कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
जनाब दिल की बात है दिल से निकल जाती है
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
सच समाज में प्रवासी है
सच समाज में प्रवासी है
Dr MusafiR BaithA
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
రామయ్య రామయ్య
రామయ్య రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
इश्क़
इश्क़
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक अर्सा हुआ है
एक अर्सा हुआ है
हिमांशु Kulshrestha
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर  टूटा है
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर टूटा है
कृष्णकांत गुर्जर
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
* मायने शहर के *
* मायने शहर के *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
कोई बात नहीं देर से आए,
कोई बात नहीं देर से आए,
Buddha Prakash
शिर्डी के साईं बाबा
शिर्डी के साईं बाबा
Sidhartha Mishra
बेटी हूँ माँ तेरी
बेटी हूँ माँ तेरी
Deepesh purohit
मातु काल रात्रि
मातु काल रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
Keshav kishor Kumar
पता नहीं कब लौटे कोई,
पता नहीं कब लौटे कोई,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*अब हिंद में फहराएगा, हर घर तिरंगा (हिंदी गजल)*
*अब हिंद में फहराएगा, हर घर तिरंगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"बकरी"
Dr. Kishan tandon kranti
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
Neelam Sharma
23/47.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/47.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"Sometimes happiness and peace come when you lose something.
पूर्वार्थ
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
Loading...