Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

कितना भी कर लो जतन

कितना भी कर लो जतन
तुम कर भी लो कई उपाय
भाग्य में लिखे अक्षर को
न कोई सके कभी मिटाय
हो कर्मवीर सच में अगर
तब सब खड़ा मिलेगा साथ
भाग्य रेखा को भी बदल दे
ठोस संकल्प मजबूत हाथ

Paras Nath Jha

242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
पूर्वार्थ
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
बेलन टांग दे!
बेलन टांग दे!
Dr. Mahesh Kumawat
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त  - शंका
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त - शंका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ आज नहीं अभी 😊😊
■ आज नहीं अभी 😊😊
*प्रणय प्रभात*
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
46...22 22 22 22 22 22 2
46...22 22 22 22 22 22 2
sushil yadav
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2737. *पूर्णिका*
2737. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
నీవే మా రైతువి...
నీవే మా రైతువి...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
लेकर सांस उधार
लेकर सांस उधार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
Gouri tiwari
जज्बात
जज्बात
अखिलेश 'अखिल'
जनवासा अब है कहाँ,अब है कहाँ बरात (कुंडलिया)
जनवासा अब है कहाँ,अब है कहाँ बरात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रकृति और मानव
प्रकृति और मानव
Kumud Srivastava
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
एक मन
एक मन
Dr.Priya Soni Khare
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
Vandna thakur
Loading...