Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 1 min read

कितना दर्द देती हैं ये यादें,

कितना दर्द देती हैं ये यादें,
जब जाती हैं ये यादें क्यूं आती हैं ये यादें
कभी गुनगुनाकर, कभी मुस्कुराकर,
कुछ छुपा तो कुछ, बयाँ कर जाती हैं ये यादें.

यादें क्यूँ रह जाती हैं यादें
कुछ बातों की यादें, कुछ क़िस्सों की यादें .
किसी के साथ रहकर मुलाक़ातो में कहकर
कुछ ख़त्म तो कुछ शुरू कर जाने की यादें.

ये यादें बस रह जातीं हैं यादें,
ख़ामोश लहर सी मन को छु जातीं हैं ये यादें
शिकन में दें दस्तक उदासी को समझकर,
खयालो को हक़ीकत से जुदा कर जातीँ हैं ये यादें

ये यादें बेकरारी की यादें
ये यादें गुमनामी की यादें,
ये यादें क्यूँ रह जातीं हैं यादें
ये यादें हैं जिन्दगी जो हे जिन्दगी की यादें.
Yashvardhan Goel

248 Views
You may also like:
✍️✍️किरदार चाहिए था✍️✍️
'अशांत' शेखर
*दूरंदेशी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अविरल आंसू प्रीत के
पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
बेटियों से
Shekhar Chandra Mitra
" मँगलमय नव-वर्ष 2023 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बोध कथा। अनुशासन
सूर्यकांत द्विवेदी
" PILLARS OF FRIENDSHIP "
DrLakshman Jha Parimal
पथिक मैं तेरे पीछे आता...
मनोज कर्ण
फूलों से।
Anil Mishra Prahari
मुख़ौटा_ओढ़कर
N.ksahu0007@writer
✍️दोगले चेहरे ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐सुख:-दुःखस्य भोग: असाधनम्💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महाराणा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
खामोशियों ने हीं शब्दों से संवारा है मुझे।
Manisha Manjari
सुनो स्त्री
Rashmi Sanjay
■ एक सलाह...
*Author प्रणय प्रभात*
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमने हिंदी को खोया है!
अशांजल यादव
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Writing Challenge- वर्तमान (Present)
Sahityapedia
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati
कजरी लोक गीत
लक्ष्मी सिंह
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
सट्टेबाज़ों से
Suraj kushwaha
वफादारी
shabina. Naaz
*अशासकीय सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों के इतिहास का एक दुर्लभ...
Ravi Prakash
माँ महागौरी
Vandana Namdev
कला
Saraswati Bajpai
Loading...