Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 28, 2016 · 1 min read

कितना दर्द देती हैं ये यादें,

कितना दर्द देती हैं ये यादें,
जब जाती हैं ये यादें क्यूं आती हैं ये यादें
कभी गुनगुनाकर, कभी मुस्कुराकर,
कुछ छुपा तो कुछ, बयाँ कर जाती हैं ये यादें.

यादें क्यूँ रह जाती हैं यादें
कुछ बातों की यादें, कुछ क़िस्सों की यादें .
किसी के साथ रहकर मुलाक़ातो में कहकर
कुछ ख़त्म तो कुछ शुरू कर जाने की यादें.

ये यादें बस रह जातीं हैं यादें,
ख़ामोश लहर सी मन को छु जातीं हैं ये यादें
शिकन में दें दस्तक उदासी को समझकर,
खयालो को हक़ीकत से जुदा कर जातीँ हैं ये यादें

ये यादें बेकरारी की यादें
ये यादें गुमनामी की यादें,
ये यादें क्यूँ रह जातीं हैं यादें
ये यादें हैं जिन्दगी जो हे जिन्दगी की यादें.
Yashvardhan Goel

218 Views
You may also like:
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
Security Guard
Buddha Prakash
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
बहुमत
मनोज कर्ण
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Green Trees
Buddha Prakash
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
Loading...