Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

कितना कोलाहल

कितना कोलाहल है
कलरव करते पछी!
मानव बन बैठा है,
अब केवल नरभछी!!कितना कोलाहल…
अपनो का अपने ही
अब गला काट रहे !
डरते नही तनिक भी,
सत्ता शासन समकछी!!कितना कोलाहल…
नारी का मन नही देखे,
सब आखे सैक रहे है!
समबंधो की बलि चढा,
रछक भी बन गए भछी!! कितना कोलाहल…
अट्टहास करती अट्टालिकाए,
बिक गए खेत-खलिहान,
तितली-भंवरे मिट गए सब,
मिट गई सब बातै अच्छी!!कितना कोलाहल…

सर्वाधिकार सुरछित मौलिक रचना
बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुज,सिकंदरा,आगरा-282007

Language: Hindi
1 Like · 280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
सपनों का सफर
सपनों का सफर
पूर्वार्थ
*दलबदलू माहौल है, दलबदलू यह दौर (कुंडलिया)*
*दलबदलू माहौल है, दलबदलू यह दौर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुममें और मुझमें बस एक समानता है,
तुममें और मुझमें बस एक समानता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दहलीज के पार 🌷🙏
दहलीज के पार 🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
एक मां ने परिवार बनाया
एक मां ने परिवार बनाया
Harminder Kaur
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
"उम्मीद का दीया"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे वास्तविकता का ज्ञान नही
मुझे वास्तविकता का ज्ञान नही
Keshav kishor Kumar
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
AVINASH (Avi...) MEHRA
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
gurudeenverma198
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
■ बे-मन की बात।।
■ बे-मन की बात।।
*Author प्रणय प्रभात*
सिर्फ़ वादे ही निभाने में गुज़र जाती है
सिर्फ़ वादे ही निभाने में गुज़र जाती है
अंसार एटवी
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
कभी जब ग्रीष्म ऋतु में
कभी जब ग्रीष्म ऋतु में
Ranjana Verma
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
Anil Mishra Prahari
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...