Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 2 min read

काश ! ! !

कुछ बात थी तुझमें
तेरे मधु बोल मन को खींचते थे,
मुग्ध हो कर देखती, व्यक्तित्व तेरा मोहता था-
चाहतों की चाशनी दिल पर चढ़ी थी…

वह प्यार था!
इक खुशनुमा एहसास सा
जिसके नशे में डूबता हर पल नया था
जिन्दगी का…

आँख ख़्वाबों से सजी थीं
साँस शहनाई बनी थी
रात-दिन सब मिल गये थे
चाँद का भंँवरा, धूप के फूल पे मंडरा रहा, रसपान करता,
स्वेच्छा से…

क्षितिज में धरती-गगन जैसे मिले हैं
कल्पना थी यूँ हमारा साथ होगा
जोहती थी बाट कब हम मिल सकेंगे
साथ में दिल खोल कर हम हंँस सकेंगे,
गुनगुने स्पर्श रोमांचित करेंगे
थरथराते-दहकते तन-मन मिलेंगे
आस पर विश्वास था, थी आस्था
सच कह रहे हो तुम कि
हम निश्चित मिलेंगे…

मन प्रफुल्लित था तुम्हारे स्नेहरस से
साथ की उम्मीद से ही तृप्त था मन
सोचकर, कोई कहीं तो है मुझे जो चाहता है
इस धरा पे …

पर कहाँ त्रुटि हो गई?
क्यों राह थोड़ी मुड़ गई?
वह मधुरता खो गयी कुछ होड़ जैसी हो गयी?
दो अहम् टकरा गये
क्यों चोट मन को लग गयी?
अब खुश नहीं तुम और ना मैं ही सुखी…

कोई वज़ह मिलती नहीं,
दुर्भावना दिखती नहीं
शायद मेरे कुछ शब्द दिल में चुभ गये,
मृदु भावनायें जल गयीं जो प्यार का दम भर रही थीं
साथ जीने और मरने की कसम भी ले रही थीं
उम्र भर की…

ग़र भरोसा आपको मुझ पर रहा होता
नहीं कुछ वाक्य इसको तोड़ सकते
प्रेम का रस सोख सकते
यूँ मुझे लगता तुम्हारी भावना कमज़ोर थी
और था वहम,
विश्वास की बेहद कमी थी…

हम चुक गये थे, पीठ अपनी मोड़ ली थी,
प्यार से विश्वास मेरा उठ गया था,
सोचती थी हाय! क्यों हम तुम मिले थे?
साथ मिल कर चल पड़े थे?
जब भरोसा काँच सा था?
टूटता इक बात से था?
क्यों क़सम खायी, प्रीत मन में बसाई ?
यह सही होता, कभी हम तुम न मिलते,
साथ चलने का कौल कोई न लेते,
तुम सुखी रहते और
मैं भी न रोती….

2 Likes · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
manjula chauhan
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
3146.*पूर्णिका*
3146.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"नग्नता, सुंदरता नहीं कुरूपता है ll
Rituraj shivem verma
अंतस के उद्वेग हैं ,
अंतस के उद्वेग हैं ,
sushil sarna
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
Rekha khichi
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Sakshi Tripathi
" शिखर पर गुनगुनाओगे "
DrLakshman Jha Parimal
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कविता// घास के फूल
कविता// घास के फूल
Shiva Awasthi
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
Shweta Soni
■ चाची 42प का उस्ताद।
■ चाची 42प का उस्ताद।
*प्रणय प्रभात*
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
नन्ही परी और घमंडी बिल्ली मिनी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
Keshav kishor Kumar
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मानवता
मानवता
Rahul Singh
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
gurudeenverma198
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
Suryakant Dwivedi
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
वर्तमान राजनीति
वर्तमान राजनीति
नवीन जोशी 'नवल'
मन की गति
मन की गति
Dr. Kishan tandon kranti
बालगीत :- चाँद के चर्चे
बालगीत :- चाँद के चर्चे
Kanchan Khanna
Loading...