Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

काश वो होते मेरे अंगना में

काश वो होते मेरे अंगना में,
होठों की प्यास बुझ जाती
फूलों में भौरे की तरह
इधर उधर मैं चूमती
हर फूल में तेरी सूरत नजर आती
मस्ती में मैं भूल जाती
बार-बार मुझे पिछली बातें याद आती
विवशता ने मुझे चारों ओर से घेरा
जीवन में बस भरा है अंधेरा
काश वो होते मेरे अंगना में
होठों की प्यास बुझ जाती
मैं भूल जाती अपनी कहानी
कैसे भुलाऊ कहानी
जीवन समस्याओं का जाल है
मानव तो उस जाल में फंसा एक पक्षी है
मानव जाल से निकलना चाहता है
आशा और निराशा के सहारे जीता है
काश वो होते मेरे अंगना में,
होठों की प्यास बुझ जाती
उनके आने से मुझमें रोशनी आती है
अंजुम उनके जाने से मेरी रोशनी जाती है
बार-बार बस तुम्हारी यादों का संसार
मुझे जीने को विवश करता है
काश वो होते मेरे अंगना में,
होठों की प्यास बुझ जाती
नाम-मनमोहन लाल गुप्ता
पता-मोहल्ला जाब्तागंज, नजीबाबाद, जिला बिजनौर 246763, यूपी
मोबाइल नंबर-9152859828

Language: Hindi
1 Like · 294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
आईना
आईना
Dr Parveen Thakur
हस्ती
हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
वो कड़वी हक़ीक़त
वो कड़वी हक़ीक़त
पूर्वार्थ
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
Surinder blackpen
जिंदगी सितार हो गयी
जिंदगी सितार हो गयी
Mamta Rani
पथ पर आगे
पथ पर आगे
surenderpal vaidya
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
Manoj Kushwaha PS
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
3194.*पूर्णिका*
3194.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
Yogini kajol Pathak
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
अनिल "आदर्श"
*ऊपर से जो दीख रहा है, कब उसमें सच्चाई है (हिंदी गजल)*
*ऊपर से जो दीख रहा है, कब उसमें सच्चाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बूढ़ा बापू
बूढ़ा बापू
Madhu Shah
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
Shweta Soni
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
sudhir kumar
"दुम"
Dr. Kishan tandon kranti
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
Loading...