Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

काश कि ऐसा होता….

दरमियाँ तेरे मेरे ये दूरियाँ नहीं होती,
काश कि ऐसा होता ये मजबूरियाँ नहीं होती।

काश कि नहीं जाती करके मुझे तबाह तू,
काश कि ना थाम लेती और किसी की बाँह तू,
काश कि तेरे हाथों में चूड़ियाँ नहीं होती,
काश कि ऐसा होता ये मजबूरियाँ नहीं होती।

काश कि हम तुम कभी मिले ही नहीं होते,
काश कि नज़दीकियों में फासले नहीं होते,
काश कि तुमसे इश्क़ की मंज़ूरियाँ नहीं होती,
काश कि ऐसा होता ये मजबूरियाँ नहीं होती।

Language: Hindi
370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#सच्ची_घटना-
#सच्ची_घटना-
*Author प्रणय प्रभात*
क्षितिज के पार है मंजिल
क्षितिज के पार है मंजिल
Atul "Krishn"
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"प्रेम कर तू"
Dr. Kishan tandon kranti
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
चाहिए
चाहिए
Punam Pande
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मित्रता का मोल
मित्रता का मोल
DrLakshman Jha Parimal
इक शाम दे दो. . . .
इक शाम दे दो. . . .
sushil sarna
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
परमात्मा से अरदास
परमात्मा से अरदास
Rajni kapoor
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
बसंत (आगमन)
बसंत (आगमन)
Neeraj Agarwal
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
विश्वास का धागा
विश्वास का धागा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2236.
2236.
Dr.Khedu Bharti
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
धूल में नहाये लोग
धूल में नहाये लोग
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Perhaps the most important moment in life is to understand y
Perhaps the most important moment in life is to understand y
पूर्वार्थ
खंडकाव्य
खंडकाव्य
Suryakant Dwivedi
घर में दो लाचार (कुंडलिया)*
घर में दो लाचार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मत रो मां
मत रो मां
Shekhar Chandra Mitra
हे माधव
हे माधव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
विचारमंच भाग -3
विचारमंच भाग -3
डॉ० रोहित कौशिक
जब भी आपसे कोई व्यक्ति खफ़ा होता है तो इसका मतलब यह नहीं है
जब भी आपसे कोई व्यक्ति खफ़ा होता है तो इसका मतलब यह नहीं है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...