Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2017 · 3 min read

काव्य का मानवीकरण

काव्य तुम क्या हो शायद तुम नहीं जानते हो और न समझ सकते हो एक विशुद्ध साहित्य से,सह्रदय से ,एक सुखद आलिंग्न की भांति एक ऐसी अनुभूति और एक असहज अनुभव सा हो जो अस्थिर कर सकने में समर्थ हो जो पूर्ववत एवम् अंतहीन हो अंतर में पैठ जाने का सामर्थ्य रखता हो।एक विशुद्ध अनुभव जो कर्मबद्ध बढ़ता ही रहता है और उसे यकीनन इसे टोहने मे समर्थ हो नियतिबद्ध से।पारंगत और निपुण साज़ की सी ध्वनि जहां सदैव गूंजती हो।इसका आगे चलकर कोई भी मायना निकाला जाए पर यहां शब्दों का चातुर्य नहीं वरन् अंतर्मन की एक विशेषाविशेष स्थिति तथा हृदय के उच्छृंखल की अवस्था का अतिक्रमण हो।यूं तो परंपरा का परिचालन अतिआवश्यक हैं अपितु यह अतिनिंदनीय है कि इसका अंत हो या परिवर्तन हो पर यह एक सहज परिपाटी है जो नियमबद्ध और अभिन्न हैं।असहज ह्रदय ये क्यों माने की इस साहित्य का सब अध्ययन करे इसको करीब से जाने ,समीक्षा करें अथवा आलोचना करे और साथ साथ यदा कदा अन्तर्मन में उद्वेलित करें।
किंतु साहित्य है तो समीक्षा भी होगी आलोच्य भी होगा वरन् मथा भी जायेगा और गहन अध्ययन भी होगा।अतएव साहित्य भावों का उच्छृंखल है जो एक भाषा की भांति जो समयानुरूप प्रचलित रहती है।काव्यकार कोई भी हो निपुण या अनभिज्ञ अपने विरल अनुभव से काव्य रचना करना समझता है और अपनी लेखनी की चाशनी से उसे समाज के सम्मुख रखता है।समय के साथ साथ साहित्य समीक्षक के अधीन हो अपनी विशुद्धता समाप्त कर सहज हो जाता है और असल साहित्यकार जिसकी वो पाण्डुलिपि थी या प्रथम कृति थी पूर्व में बल्कि भाव से परे हो उठती है।लेकिन यह भी अनौचित्य है कि उसका मंथन न हो उस पर कोई टिप्पणी न हो । सृजन एक व्यैक्तिक क्रिया नहीं अनेक संकल्पनाओं का गहन मिश्रण है।यह मिश्रित विचारों की सूझबूझ एवम् व्याख्या है।यहां किसी का एकमत होना कोई जरुरी विषय नहीं फिर भी काव्य की रचना में सबका ध्येय पूर्णरूप से अथवा अपूर्ण रूप से एकसमान होता है।इस पर तर्क वितर्क का होना काव्य के लिए महत्वपूर्ण है।समीक्षा और आलोचना काव्य और काव्य सर्जक के अभिन्न अंग है अतः किसी भी समीक्षा या आलोचना की पुष्ठि को काव्य के लिए हितकर माना चाहिए।साहित्य के रचने से पूर्व कवि एवम् लेखक का लक्ष्य निर्धारित होना चाहिए अन्यथा काव्य अपूर्ण है।काव्य के प्रति तादात्मय होना सहज विषय है किंतु काव्य के गूढ़ अर्थ को समझना अपरिहार्य है अपर्याप्त सा विषय है।यह अतिनिंदनीय कथ्य है कि अतिविशेष काव्य की समीक्षा आलोचना किसी मूढ़ व्यक्ति के हाथों हो यहां अर्थ का अनर्थ होने का अंदेशा हर पल रहता है और आगे भी रहेगा।काव्य रचना कवि की आंतरिक सोच का परिणाम एवम् एक अच्युत विषय है जो गूढ़ रहस्य से ओतप्रोत है।यह गुड़ का ढेला नहीं जो किसी भी मिष्ठान में सम्मिश्रित किया जा सके।जैसा कि रीति कवि ठाकुर ने कहा था।
“ढेल सा बनाय आए मेलत सभा के बीच,कवितु करन खेलि करि जानो है।”
ये कवि की संकल्पना है जिसमें उसकी अनेकानेक अनुभूतियां एवम् सानिध्य संलग्न है।यह कवि का अनछुआ प्रेम है जो कागद लेखनी संग ह्रदयों में उतरने बसने की क्षमता रखता है।

मनोज शर्मा
9868310402

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 657 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
'एक कप चाय' की कीमत
'एक कप चाय' की कीमत
Karishma Shah
अन्त हुआ आतंक का,
अन्त हुआ आतंक का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्द का बस
दर्द का बस
Dr fauzia Naseem shad
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
अक्सर आकर दस्तक देती
अक्सर आकर दस्तक देती
Satish Srijan
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
Dheerja Sharma
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जागो जागो तुम सरकार
जागो जागो तुम सरकार
gurudeenverma198
पल
पल
Sangeeta Beniwal
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*Author प्रणय प्रभात*
किसी औरत से
किसी औरत से
Shekhar Chandra Mitra
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
*हुआ जब साठ का नेता (मुक्तक)*
*हुआ जब साठ का नेता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...