Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2017 · 1 min read

काव्य का एक नया रस – “ विरोधरस “ + डॉ. अभिनेष शर्मा

काव्य का एक नया रस – “ विरोधरस “
+ डॉ. अभिनेष शर्मा
————————————————–
शोध कृति क्रोध “ विरोधरस “ में श्री रमेशराज ने समझाया है कि क्रोध और आक्रोश में महीन अंतर है | क्रोध अपने विरोधी का विनाश करता है , आक्रोश केवल विनाश की कामना करता है | वह विचारों को बदलने की क्षमता रखता है | विरोध बर्बर आततायी पक्ष को वैचारिक रूप से परिवर्तन की ओर ले जाना चाहता है जबकि क्रोध शत्रु पक्ष का केवल और केवल विनाश करता है |
अब तक साहित्य में जितने रस विराजते हैं , उनकी आभा का एक अलग स्वरूप है , परन्तु “ विरोधरस ” जिसे साहित्य जगत में रमेशराज ने स्थापित करने का प्रयास किया है, स्तुत्य इसलिए है क्योंकि राज जी ने इस नये रस के प्रत्येक अंग पर विस्तार से चर्चा की है |
किसी भी व्यवस्था, विचार, विसंगति, चरित्र, व्यक्तिविशेष , या परम्परा का विरोध करना समाज की सनातन रीति रही है | इस रीति को पूर्ववर्ती रसाचार्यों ने स्थायी भाव साहस या क्रोध के साथ रखकर वीररस अथवा रोद्र्रस के रूप में स्थापित किया है | रसचिंतन को आगे बढ़ाते हुए श्री रमेशराज ने समीक्ष्य पुस्तक “विरोधरस” में बताया है कि वीररस , रौद्ररस से विरोध रस पूरी तरह प्रथक है | विरोध आक्रोशित असहाय, निर्बल आदमी का बयान है | विरोध का जन्म स्थायी भाव आक्रोश से होता है | डॉ. नरेशपाण्डेय चकोर के शब्दों में-
“ विरोधरस ” सचमुच शोधपूर्ण और स्व्गात्योग्य कृति है | इसे नये रस के रूप में मान्यता मिलनी चाहिए |
———————————————————————
डॉ.अभिनेष शर्मा, देव हॉस्पिटल, खिरनी गेट , अलीगढ़
मोबा.-9837503132

Language: Hindi
Tag: लेख
230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
कवि रमेशराज
प्रीतम दोहावली
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2313.
2313.
Dr.Khedu Bharti
यकीन नहीं होता
यकीन नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
तुमने दिल का
तुमने दिल का
Dr fauzia Naseem shad
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
Anand.sharma
इश्क़ ❤️
इश्क़ ❤️
Skanda Joshi
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा  !
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा !
DrLakshman Jha Parimal
वक्त गर साथ देता
वक्त गर साथ देता
VINOD CHAUHAN
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
होली का रंग
होली का रंग
मनोज कर्ण
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
*Author प्रणय प्रभात*
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
सवालिया जिंदगी
सवालिया जिंदगी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
पुलवामा वीरों को नमन
पुलवामा वीरों को नमन
Satish Srijan
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
किसका चौकीदार?
किसका चौकीदार?
Shekhar Chandra Mitra
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
कवि दीपक बवेजा
उसकी आंखों से छलकता प्यार
उसकी आंखों से छलकता प्यार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
करीब हो तुम किसी के भी,
करीब हो तुम किसी के भी,
manjula chauhan
"मेरी दुनिया"
Dr Meenu Poonia
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मृत्यु भय
मृत्यु भय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...