Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2024 · 1 min read

काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं

काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
जीवित रहते हाल न पूंछा, तस्वीरों पर हार चढ़ाते हैं
मात – पिता को पानी न देते, भंडारे करवाते है
हक़ मारते भाई, बहन का, दानवीर कहलाते है
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं

कितने त्याग हैं मात पिता के ,कभी नहीं दर्शाते हैं
अपनी क्षुधा सहन लेते , बच्चों को खिलाते हैं
निद्रा पूर्ति हेतु बच्चों की,अपनी रातें गँवाते हैं
आवश्यक हो जावे तो,कर्जा भी ले आते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं

सभी संतानों को वो पालते, कभी नहीं घबराते है
मात पिता हमसे ना पलते, वो दुत्कारे जाते हैं
कुत्तों को घर में रखते हैं, आधुनिक बन जाते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं

45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"धरती की कोख में"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
*चलेगा पर्वतों से जल,तपस्या सीख लो करना (मुक्तक)*
*चलेगा पर्वतों से जल,तपस्या सीख लो करना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
चित्र और चरित्र
चित्र और चरित्र
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
गरिबी र अन्याय
गरिबी र अन्याय
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ग़म भूल जाइए,होली में अबकी बार
ग़म भूल जाइए,होली में अबकी बार
Shweta Soni
मुझमें एक जन सेवक है,
मुझमें एक जन सेवक है,
Punam Pande
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
हल
हल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
ग़लत समय पर
ग़लत समय पर
*Author प्रणय प्रभात*
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
दौरे-हजीर चंद पर कलमात🌹🌹🌹🌹🌹🌹
दौरे-हजीर चंद पर कलमात🌹🌹🌹🌹🌹🌹
shabina. Naaz
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
चिकने घड़े
चिकने घड़े
ओनिका सेतिया 'अनु '
3032.*पूर्णिका*
3032.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
Sahil Ahmad
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बरसात
बरसात
surenderpal vaidya
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
Loading...