Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2023 · 2 min read

कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान

कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
भूरे भैया देख रहे हैं, लगा लगा कर ध्यान
करते रहते फारवर्ड सभी,वे सिर पैर की बातें
चिपके रहते सैल फोन से,वीत रहीं दिन रातें
विन सोचे समझे ही भैया, सबको देते ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
झूठी सच्ची खबरें, सोशल प्लेट फार्म पर आतीं हैं
उद्देलित करतीं हैं समाज को और उत्पात मचातीं हैं
प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक्स मीडिया मिर्च मसाला लगाते हैं
वे मतलब की बातों से जनता को भड़काते हैं
सनसनी फैला फैला कर, टीआरपी अपनी बढ़ाते हैं
देते रहते हैं नेताजी, उल्टे-सीधे वयान
असर क्या होगा देश समाज पर, नहीं है उनको ध्यान
अपना उल्लू सीधा करने, करते भड़काने वाले काम
वोटों के लिए देते रहते हैं,सोचे समझे वयान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
टेली और इंस्टाग्राम एक्स ने धूम मचाई है
बर्बाद कर रहे भारत को,ये कैसी आज़ादी आई है
अभिव्यक्ति के नाम पर ये,कैसी बाट लगाई है
कालू और भूरे भैया, पहले कुछ सोचो समझो
क्या देखना क्या नहीं देखना, क्या बोलना नहीं बोलना
समझ तो कुछ विकसित कर लो
अच्छी चीजें भी भरी पड़ी हैं, उनको भी भैया पढ़ लो
नेता जी मीडिया सोशल साइट्स,अब तो समाज की सुध लो
फेंक प्रोपगंडा फिक्सिंग,नेरेटिव मिशन पेड न्यूज न हो
वाम पंथियों के कुत्सित प्रयास को, सफल नहीं होने दो
जिसका खा कर बड़े हुए हो,उसको और दगा न दो
भारत की पावन धरती पर, और जहर नहीं उगलो
साहित्य संस्कृति और विरासत उनकी भी तो अब सुध लो
तय हो सबकी जिम्मेदारी,रखो सभी ये ध्यान
देना हो तो दो समाज को,नीर क्षीर का ज्ञान
साहित्य संस्कृति कला ज्ञान और विज्ञान
मत पेलो कालू लालू भूरे, वे मतलब का ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

1 Like · 230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
* गीत मनभावन सुनाकर *
* गीत मनभावन सुनाकर *
surenderpal vaidya
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
अंसार एटवी
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
Jyoti Khari
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
👍 काहे का दर्प...?
👍 काहे का दर्प...?
*Author प्रणय प्रभात*
चाहते हैं हम यह
चाहते हैं हम यह
gurudeenverma198
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
पूर्वार्थ
*ऋषि नहीं वैज्ञानिक*
*ऋषि नहीं वैज्ञानिक*
Poonam Matia
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
Shashi kala vyas
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
ओढ़कर कर दिल्ली की चादर,
ओढ़कर कर दिल्ली की चादर,
Smriti Singh
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
prAstya...💐
prAstya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
Ravi Prakash
सरोकार
सरोकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
गुजरा वक्त।
गुजरा वक्त।
Taj Mohammad
हर मौसम में हर मौसम का हाल बताना ठीक नहीं है
हर मौसम में हर मौसम का हाल बताना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
Loading...