Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

करवा चौथ

कार्तिक मास की चौथ को चंदा जब भी तू आएगा
दूर हुआ है प्रियतम जिसका उसकी याद दिलाएगा
हो सके तो प्रिय को मेरे भी ये संदेशा चंदा दे आना
हुए कई बरस सीमा पर गए कब छबि दिखलाएगा

(सेना के जवान को समर्पित)

संजय श्रीवास्तव
बालाघाट मध्यप्रदेश
01.11.2023

769 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from इंजी. संजय श्रीवास्तव
View all
You may also like:
दस लक्षण पर्व
दस लक्षण पर्व
Seema gupta,Alwar
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"फर्क"
Dr. Kishan tandon kranti
Me and My Yoga Mat!
Me and My Yoga Mat!
R. H. SRIDEVI
18--- 🌸दवाब 🌸
18--- 🌸दवाब 🌸
Mahima shukla
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
Ravi Prakash
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
पूर्वार्थ
तुम
तुम
Sangeeta Beniwal
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
कवि रमेशराज
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
जिंदगी को बोझ मान
जिंदगी को बोझ मान
भरत कुमार सोलंकी
3197.*पूर्णिका*
3197.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अस्तित्व की पहचान
अस्तित्व की पहचान
Kanchan Khanna
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
■ मुक्तक।
■ मुक्तक।
*प्रणय प्रभात*
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
Lokesh Sharma
"" मामेकं शरणं व्रज ""
सुनीलानंद महंत
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
Dr. Upasana Pandey
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ सरस्वती
माँ सरस्वती
Mamta Rani
*यारा तुझमें रब दिखता है *
*यारा तुझमें रब दिखता है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
Vindhya Prakash Mishra
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
Shweta Soni
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
बस यूं बहक जाते हैं तुझे हर-सम्त देखकर,
बस यूं बहक जाते हैं तुझे हर-सम्त देखकर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...