Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 1 min read

कामयाबी

#justareminderekabodhbalak
#drarunkumarshastriblogger

ताकतें आसुरी
करती सदा
परेशान हैं इंसान को
होकर परेशान
और निखरता इंसान है ।।
लगन मेहनत आस्था
जिंदगी के लिए
मंत्र मात्र तीन
ही होते हैं सदा
जो न हो पालना
इनकी तो फिर
बिखरता इंसान है ।।
हे प्रभु तेरी शरण
रहता अगर इंसान है
कार्य उसके साधुता के
होते सफल निश्चित सदा
धीर हों गंभीर हों
मानवीय हित की
यदि भावना और पीर हो
सिद्ध होते कार्य वो
पर हित का जिनमें नीर हो

Language: Hindi
252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
* करते कपट फरेब *
* करते कपट फरेब *
surenderpal vaidya
■ प्रणय का गीत-
■ प्रणय का गीत-
*प्रणय प्रभात*
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
जीवन से तम को दूर करो
जीवन से तम को दूर करो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
स्त्री
स्त्री
Dr fauzia Naseem shad
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr Archana Gupta
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
ढलता सूरज गहराती लालिमा देती यही संदेश
Neerja Sharma
सुनती हूँ
सुनती हूँ
Shweta Soni
पापा जी..! उन्हें भी कुछ समझाओ न...!
पापा जी..! उन्हें भी कुछ समझाओ न...!
VEDANTA PATEL
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नारी
नारी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पत्नी की पहचान
पत्नी की पहचान
Pratibha Pandey
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
KAJAL NAGAR
सपनों का सफर, संघर्षों का साथ,
सपनों का सफर, संघर्षों का साथ,
पूर्वार्थ
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन की बुलंद
मन की बुलंद
Anamika Tiwari 'annpurna '
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
अनिल कुमार
"दिल्लगी"
Dr. Kishan tandon kranti
सुबह का भूला
सुबह का भूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
Meenakshi Masoom
सहधर्मनी
सहधर्मनी
Bodhisatva kastooriya
फिर से आयेंगे
फिर से आयेंगे
प्रेमदास वसु सुरेखा
नशा-ए-दौलत तेरा कब तक साथ निभाएगा,
नशा-ए-दौलत तेरा कब तक साथ निभाएगा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
kavita
kavita
Rambali Mishra
Loading...