Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

*कामदेव को जीता तुमने, शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*

कामदेव को जीता तुमने, शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)
—————————————-
कामदेव को जीता तुमने ,शंकर तुम्हें प्रणाम है
(1)
कामदेव का बाण न किंचित ,तुम पर चल पाया था
वह समाधि में लीन साधना ,भंग हेतु आया था
कामदेव के शत्रु देव ‘कामारि’ तुम्हारा नाम है
(2)
तुम देवों के देव सदा से ,महादेव कहलाते
चाह सुधा की रही सभी की ,तुम विष को पी जाते
कंठ तुम्हारा अब तक नीला ,विष करता विश्राम है
(3)
जग में रहकर भी तुम जग से, अनासक्त कहलाए
ढके बर्फ के पर्वत पर, धूनी हर समय रमाए
एक महायोगी की मुद्रा ,मिली तुम्हें अभिराम है
कामदेव को जीता तुमने ,शंकर तुम्हें प्रणाम है
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

391 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
रात सुरमई ढूंढे तुझे
रात सुरमई ढूंढे तुझे
Rashmi Ratn
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इतना गुरुर न किया कर
इतना गुरुर न किया कर
Keshav kishor Kumar
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
सत्य कुमार प्रेमी
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
AMRESH KUMAR VERMA
शेरू
शेरू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
VEDANTA PATEL
सामन्जस्य
सामन्जस्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
स्वास्थ्य का महत्त्व
स्वास्थ्य का महत्त्व
Paras Nath Jha
" सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
रिश्तों को साधने में बहुत टूटते रहे
रिश्तों को साधने में बहुत टूटते रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*पुस्तक (बाल कविता)*
*पुस्तक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
If life is a dice,
If life is a dice,
DrChandan Medatwal
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
निर्मेष के दोहे
निर्मेष के दोहे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
😟 आज की कुंडली :--
😟 आज की कुंडली :--
*Author प्रणय प्रभात*
कातिल
कातिल
Gurdeep Saggu
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
Jyoti Khari
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
फ़ितरत का रहस्य
फ़ितरत का रहस्य
Buddha Prakash
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-346💐
💐प्रेम कौतुक-346💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ Rãthí
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
gurudeenverma198
Loading...