Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 27, 2016 · 1 min read

काफिला आई जेहन में…

काफिला आया जेहन में…………
≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈

वाकयातों का नया एक
काफिला आया जेहन में ।
बाहयातों की कई चेहरे
निखर आया जहाँ में ।
वाकयातों का नया…………….

बेशरम दोपांच ही ने
आज हंगामा किया है ।
माँ भारती के लाल को
माँ ने पुनः आज्ञा किया है ।
मानसिक उन्माद कुछ
ज्यादा ही उठता है जहां में।
वाकयतों की नयी……………………..

जोश और सामर्थ्य की
अग्नि परीक्षा की अवस्था ।
अब हुई दरकार जीवन
में भी आये सुव्यवस्था ।।
बन के नव चैतन्य ध्रुव सा
कोई आये इम्तिहाँ में ।
वाकयातों की नयी………………..

फिर नए इतिहास की
संभावना लेकर हवा है ।
फिर नए संकल्प के
नवधर्म को लेकर दिशा है ।।
आखिरी स्थापना को
सत्य जलती आत्मा में ।
वाकयातों का नया…………….

सामरिक अरुण
wcm nds

274 Views
You may also like:
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Saraswati Bajpai
पिता
Dr.Priya Soni Khare
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
मेरे पापा
Anamika Singh
यादें
kausikigupta315
पिता
Manisha Manjari
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...