Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

कान्हा भजन

तू काला , मैं गोरी रे सांवरे
तू मनमोहन , मैं तेरी राधा रे सांवरे

तुम चन्दा , मैं तेरी चांदनी सांवरे
तू बादल , मैं प्यासी धरती सांवरे

तुम बारिश , मैं सूखी धरती सांवरे
तुम खुशबू , मैं फूल सांवरे

तू कान्हा , मैं तेरी मीरा रे सांवरे
तू कृष्ण , मई न तेरी जोधा रे सांवरे

तुम गोविन्द , मैं तेरी लक्ष्मी सांवरे
तुम जीवन , मैं तेरी आस सांवरे

तुम शिव , मैं तेरी गौरा रे सांवरे
मेरे जीवन की , तुम डोर सांवरे

तू काला , मैं गोरी रे सांवरे
तू मनमोहन , मैं तेरी राधा रे सांवरे

तुम चन्दा , मैं तेरी चांदनी सांवरे
तू बादल , मैं प्यासी धरती सांवरे

1 Like · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
Faiza Tasleem
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इंकलाब की मशाल
इंकलाब की मशाल
Shekhar Chandra Mitra
बहुत समय बाद !
बहुत समय बाद !
Ranjana Verma
मानव पहले जान ले,तू जीवन  का सार
मानव पहले जान ले,तू जीवन का सार
Dr Archana Gupta
अंधविश्वास का पोषण
अंधविश्वास का पोषण
Mahender Singh
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
Ranjeet kumar patre
मन मंदिर के कोने से
मन मंदिर के कोने से
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
Shweta Soni
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
Neeraj Agarwal
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आइये तर्क पर विचार करते है
आइये तर्क पर विचार करते है
शेखर सिंह
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Sakshi Tripathi
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
ढूंढता हूँ उसे मैं मगर मिल नहीं पाता हूँ
ढूंढता हूँ उसे मैं मगर मिल नहीं पाता हूँ
VINOD CHAUHAN
Chubhti hai bate es jamane ki
Chubhti hai bate es jamane ki
Sadhna Ojha
नन्हें बच्चे को जब देखा
नन्हें बच्चे को जब देखा
Sushmita Singh
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
"सृजन"
Dr. Kishan tandon kranti
*वधू (बाल कविता)*
*वधू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
#शख़्सियत...
#शख़्सियत...
*Author प्रणय प्रभात*
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
पूर्वार्थ
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इंडियन टाइम
इंडियन टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...