Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2017 · 1 min read

काँटों को अपनाकर देखें

आओ फूल खिलाकर देखें
काँटों को अपनाकर देखें

खुली आँख से रातों में अब
सपने नए सजाकर देखें

बड़े दिनों से दर्द सहा है
चलो आज मुस्काकर देखें

रिश्ते नाते दूर हुए सब
फिर परिवार बनाकर देखें

मंजिल की चाहत में गुम थे
जो खोया था पाकर देखें

धन दौलत में डूब गए सब
अहम को आज जलाकर देखें

आँखों में जो कैद हैं मेरे
मोती आज लूटाकर देखें

तेरे आने की आहट है
दुल्हन सा शरमाकर देखें

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’

774 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पतझड़ तेरी वंदना, तेरी जय-जयकार(कुंडलिया)
पतझड़ तेरी वंदना, तेरी जय-जयकार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
2770. *पूर्णिका*
2770. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपने आमाल पे
अपने आमाल पे
Dr fauzia Naseem shad
गीतिका।
गीतिका।
Pankaj sharma Tarun
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
क्यूँ ख़्वाबो में मिलने की तमन्ना रखते हो
क्यूँ ख़्वाबो में मिलने की तमन्ना रखते हो
'अशांत' शेखर
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
स्वच्छंद प्रेम
स्वच्छंद प्रेम
Dr Parveen Thakur
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
कितना प्यार करता हू
कितना प्यार करता हू
Basant Bhagawan Roy
राखी सांवन्त
राखी सांवन्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
संयुक्त परिवार
संयुक्त परिवार
विजय कुमार अग्रवाल
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जाति-पाति देखे नहीं,
जाति-पाति देखे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
#तुम्हारा अभागा
#तुम्हारा अभागा
Amulyaa Ratan
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
"प्यास"
Dr. Kishan tandon kranti
कट्टर ईमानदार हूं
कट्टर ईमानदार हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी के प्रति
किसी के प्रति "डाह"
*Author प्रणय प्रभात*
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
रामायण  के  राम  का , पूर्ण हुआ बनवास ।
रामायण के राम का , पूर्ण हुआ बनवास ।
sushil sarna
Loading...