Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Oct 2022 · 1 min read

काँच के टुकड़े तख़्त-ओ-ताज में जड़े हुए हैं

ग़ज़ल
काँच के टुकड़े तख़्त-ओ-ताज में जड़े हुए हैं
कोहिनूर तो सब धरती में गड़े हुए हैं

हम बाहें फैलाए कब से खड़े हुए हैं
अपनी ज़िद पर आप अभी तक अड़े हुए हैं

देख तेरे पैरों में कहीं ये चुभ जायें ना
दर्द बहुत देंगे ये काँटे सड़े हुए हैं

धोका खाये सब्र के घूँट पिये हैं हमने
बस ऐसे ही तो पल कर हम बड़े हुए हैं

मुझको तो बस इनमें याराना लगता है
फिर कैसे नैनों से नैना लड़े हुए हैं

तोहफ़े में बैसाखी दी थी हमको, जिसने
हैराँ है वो हम पैरों पर खड़े हुए हैं

दूजे साँचे में हम ढलें ‘अनीस’ अब कैसे
वक़्त की भट्टी में पक कर जो कड़े हुए हैं

– अनीस शाह ‘अनीस ‘

Language: Hindi
3 Likes · 32 Views
You may also like:
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
जीवन अनमोल है।
जगदीश लववंशी
*अखिल भारतीय साहित्य परिषद की विचार-गोष्ठी एवं काव्य-गोष्ठी*
Ravi Prakash
जिंदगी एक बार
Vikas Sharma'Shivaaya'
■ एक आलेख : भर्राशाही के खिलाफ
*प्रणय प्रभात*
अच्छा लगता है
लक्ष्मी सिंह
"चित्रांश"
पंकज कुमार कर्ण
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
ਇਸ਼ਕ਼ ਨੂੰ ਮਹਿਸੂਸ ਕਰਦਿਆਂ
Kaur Surinder
* तिस लाग री *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
सौ बात की एक
Dr.sima
भगवान बताएं कैसे :भाग-1
AJAY AMITABH SUMAN
बिहार एवं बिहारी (मेलोडी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरी दादी के नजरिये से छोरियो की जिन्दगी।।
Nav Lekhika
पढ़ना और पढ़ाना है
kumar Deepak "Mani"
शेर
Rajiv Vishal
मंजिल
Kanchan Khanna
तुमसे मिलने से पहले।
Taj Mohammad
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आरक्षण एक क्षतिपूर्ति
Shekhar Chandra Mitra
लड़खड़ाने से न डर
Satish Srijan
साधुवाद और धन्यवाद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम की राह पर-75💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
'अशांत' शेखर
जय जय तिरंगा
gurudeenverma198
बेशरम रंग
मनोज कर्ण
बेशक
shabina. Naaz
हर रोज में पढ़ता हूं
Sushil chauhan
हे देश के जवानों !
Buddha Prakash
Loading...