Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Dec 2023 · 1 min read

क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी

क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
ज़मीं से ये उठा तुझको फ़लक छत पर बिठा देंगी/1

जहां झूठा मगर है ज्ञान तो सच्चा ज़रा समझो
कभी उतरो क़िताबों के दिलों में सब बता देंगी/2

आर.एस. ‘प्रीतम’

1 Like · 453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
3117.*पूर्णिका*
3117.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे बुद्ध महान !
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*निरोगी तन हमेशा सुख का, मूलाधार होता है 【मुक्तक】*
*निरोगी तन हमेशा सुख का, मूलाधार होता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
पतझड़ से बसंत तक
पतझड़ से बसंत तक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
बैठे थे किसी की याद में
बैठे थे किसी की याद में
Sonit Parjapati
Know your place in people's lives and act accordingly.
Know your place in people's lives and act accordingly.
पूर्वार्थ
#देसी_ग़ज़ल / #नइयां
#देसी_ग़ज़ल / #नइयां
*Author प्रणय प्रभात*
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
एक मुक्तक
एक मुक्तक
सतीश तिवारी 'सरस'
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
ruby kumari
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
Rj Anand Prajapati
"चारपाई"
Dr. Kishan tandon kranti
तुमको खोकर
तुमको खोकर
Dr fauzia Naseem shad
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
शेखर सिंह
Badalo ki chirti hui meri khahish
Badalo ki chirti hui meri khahish
Sakshi Tripathi
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
घर-घर तिरंगा
घर-घर तिरंगा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
shabina. Naaz
रोज मरते हैं
रोज मरते हैं
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
कवि रमेशराज
तुलसी युग 'मानस' बना,
तुलसी युग 'मानस' बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
Loading...