Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

क़यामत

काश ये क़यामत थोड़ा पहले आती,
ख़ुदा की कसम कोई बात बन जाती,
अपनी आँखों में होती चमक सितारों की,
ज़िन्दगी किस कदर बदल जाती ।
यूँही फिरते रहे अंधेरों में,
बेसबब, बेपरवाह यूँही एकाकी,
दीप जलाने का होश तब आया,
जब दीपक से रूठ गई बाती ।
मेरे शहर में नहीं रिवाज़ माना लिखने का,
लबों से भी ये बात कही नहीं जाती,
तुम्हें पता था जब हालातों का,
तुम ही लिख देते कोई पाती ।
तुम तो जाते हो बदलकर रिश्ते,
कैसे ढूंढें कोई नया साकी,
इस तरह जीने से तो अच्छा था,
जान कमबख्त ये निकल जाती ।

Language: Hindi
8 Likes · 1 Comment · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
जीवन में,
जीवन में,
नेताम आर सी
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Gestures Of Love
Gestures Of Love
Vedha Singh
कुण्डलिया छंद
कुण्डलिया छंद
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कोई शाम तलक,कोई सुबह तलक
कोई शाम तलक,कोई सुबह तलक
Shweta Soni
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
2522.पूर्णिका
2522.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सपने का सफर और संघर्ष आपकी मैटेरियल process  and अच्छे resou
सपने का सफर और संघर्ष आपकी मैटेरियल process and अच्छे resou
पूर्वार्थ
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
कुंडलिया ....
कुंडलिया ....
sushil sarna
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज का शेर दिल की दुनिया से।।
■ आज का शेर दिल की दुनिया से।।
*प्रणय प्रभात*
शान्ति कहां मिलती है
शान्ति कहां मिलती है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Sakshi Tripathi
हे अयोध्या नाथ
हे अयोध्या नाथ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
घर-घर तिरंगा
घर-घर तिरंगा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
माटी
माटी
AMRESH KUMAR VERMA
तनहाई
तनहाई
Sanjay ' शून्य'
पलटे नहीं थे हमने
पलटे नहीं थे हमने
Dr fauzia Naseem shad
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
Manoj Mahato
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
कवि रमेशराज
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अतिथि
अतिथि
surenderpal vaidya
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
Loading...