Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

कह-मुकरी

उसका रूप भुला ना पाऊं,
छोडूं ना मैं जब पा जाऊं,
उसके बिन यह दुनिया खोटी,
क्या सखि साजन ? ना सखि रोटी !

गर्म करे वो रातें मेरी,
ढँक दे कोमल काया ऐ री,
उफ़ ना लेने दे अँगडाई,
क्या सखि साजन ? नहीं रजाई !!

नाक दबाये आँख छिपाए,
खींचे कानो को मन भाए,
रँग रंगीला कर दे पागल,
क्या सखि साजन ? ना सखि गागल !!

कभी साथ ना छोड़ा जाए,
और कभी बिलकुल ना भाए,
दिन-दिन बदले उसका रूप,
क्या सखि साजन ? ना सखि धूप !!

मेरे तन को दे वह गर्मी,
चूमें लब जब कर बेशर्मी,
जीभ निगोड़ी री जली जाय
ऐ सखि साजन ? ना सखी चाय !!

~ अशोक कुमार रक्ताले

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 666 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार का मौसम
प्यार का मौसम
Shekhar Chandra Mitra
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Sakshi Tripathi
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Godambari Negi
तोलेंगे सब कम मगर,
तोलेंगे सब कम मगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो वक्त कब आएगा
वो वक्त कब आएगा
Harminder Kaur
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
दिव्य काशी
दिव्य काशी
Pooja Singh
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
"बेखुदी "
Pushpraj Anant
वैविध्यपूर्ण भारत
वैविध्यपूर्ण भारत
ऋचा पाठक पंत
ईश्वरीय प्रेरणा के पुरुषार्थ
ईश्वरीय प्रेरणा के पुरुषार्थ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
Ravi Prakash
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
चंद सिक्कों की खातिर
चंद सिक्कों की खातिर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐अज्ञात के प्रति-147💐
💐अज्ञात के प्रति-147💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2557.पूर्णिका
2557.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ Rãthí
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
शेखर सिंह
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
कोई आरज़ू नहीं थी
कोई आरज़ू नहीं थी
Dr fauzia Naseem shad
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
आप हँसते हैं तो हँसते क्यूँ है
आप हँसते हैं तो हँसते क्यूँ है
Shweta Soni
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...