Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

कह-मुकरी

उसका रूप भुला ना पाऊं,
छोडूं ना मैं जब पा जाऊं,
उसके बिन यह दुनिया खोटी,
क्या सखि साजन ? ना सखि रोटी !

गर्म करे वो रातें मेरी,
ढँक दे कोमल काया ऐ री,
उफ़ ना लेने दे अँगडाई,
क्या सखि साजन ? नहीं रजाई !!

नाक दबाये आँख छिपाए,
खींचे कानो को मन भाए,
रँग रंगीला कर दे पागल,
क्या सखि साजन ? ना सखि गागल !!

कभी साथ ना छोड़ा जाए,
और कभी बिलकुल ना भाए,
दिन-दिन बदले उसका रूप,
क्या सखि साजन ? ना सखि धूप !!

मेरे तन को दे वह गर्मी,
चूमें लब जब कर बेशर्मी,
जीभ निगोड़ी री जली जाय
ऐ सखि साजन ? ना सखी चाय !!

~ अशोक कुमार रक्ताले

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 2 Comments · 531 Views
You may also like:
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
राजीव था नाम जिसका ( पूर्व प्रधान मंत्री श्री राजीव...
ओनिका सेतिया 'अनु '
स्वाधीनता आंदोलन में, मातृशक्ति ने परचम लहराया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साबित करो कि ज़िंदा हो
Shekhar Chandra Mitra
*त्यौहार हिन्द के(बाल कविता)*
Ravi Prakash
सावन आया
HindiPoems ByVivek
"पेट को मालिक किसान"
Dr Meenu Poonia
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
कई सूर्य अस्त हो जाते हैं
कवि दीपक बवेजा
बरसात और बाढ़
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मां की महिमा
Shivraj Anand
Atma & Paramatma
Shyam Sundar Subramanian
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हिंदी हमारी शान है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
सिर्फ तेरी वजह से
gurudeenverma198
महावर
Dr. Sunita Singh
वही तो प्यार होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
“LOVELY FRIEND”
DrLakshman Jha Parimal
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस के युवा नेता जिसने संघर्ष से बनाया...
Jansamavad
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चरैवेति चरैवेति का संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भक्त गोरा कुम्हार 🙏🏻🌹
Pravesh Shinde
मैं तुझको इश्क कर रहा हूं।
Taj Mohammad
✍️अल्फाज़ो का कोहिनूर "ताज मोहम्मद"✍️
'अशांत' शेखर
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भूख
Saraswati Bajpai
फर्क़ ए मुहब्बत
shabina. Naaz
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
Irshad Aatif
पंचशील गीत
Buddha Prakash
अगर तू नही है जीवन में ये अधखिला रह जाएगा
Ram Krishan Rastogi
Loading...