Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

कहीं पानी ने क़हर ढाया……

कहीं पानी ने क़हर ढाया……
कहीं गर्मी ने आग लगायी….
ये है कुदरत ……..खुदा की
इसके ऊपर किसी का बस
नहीं चलता भाई…………shabinaZ

163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
यार ब - नाम - अय्यार
यार ब - नाम - अय्यार
Ramswaroop Dinkar
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
विद्यार्थी जीवन
विद्यार्थी जीवन
Santosh kumar Miri
-- फ़ितरत --
-- फ़ितरत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
शेखर सिंह
जीवन से ओझल हुए,
जीवन से ओझल हुए,
sushil sarna
The story of the two boy
The story of the two boy
DARK EVIL
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
अभिनव अदम्य
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
Satish Srijan
गीत
गीत
Shiva Awasthi
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
कवि रमेशराज
"चिढ़ अगर भीगने से है तो
*प्रणय प्रभात*
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
sushil yadav
* मिट जाएंगे फासले *
* मिट जाएंगे फासले *
surenderpal vaidya
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
Sanjay ' शून्य'
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
डी. के. निवातिया
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
Ranjeet kumar patre
2902.*पूर्णिका*
2902.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"प्रकृति की ओर लौटो"
Dr. Kishan tandon kranti
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...