Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

कहीं कोई भगवान नहीं है//वियोगगीत

संगम के तट पर इक बेवा, रोते रोते चीख रही है।
कहीं कोई भगवान नहीं है, नहीं, कोई भगवान नहीं है।

पूरी दुनिया में बापू ने, यही एक वर क्यों ढूँढा था ?
मैंने तो व्रत भी रखे, फिर भाग मेरा ही क्यों फूटा था ?
कोई मंगल, रीत, तुम्हारी दुनिया वालों काम न आई,
कहां ज्ञान रख आया पंडित, जिसने थी कुंडली मिलाई।

एक वियोगन कमसिन, पूरा जीवन दर्शन सीख रही है।
कहीं कोई भगवान नहीं है, नहीं, कोई भगवान नहीं है।

सारे देव, पितर पूजे थे, अम्मा और चाचियों ने भी।
सात दफा ये माँग भरी थी, मेरी सभी भाभियों ने भी।
सारे देव उठाकर फेंको, पितरों को भी आग लगा दो।
आशीर्वाद नहीं फलते हैं, ये नववधुओं से बतला दो।

प्रभुता से हारी नारी को, प्रभुता हारी दीख रही है।
कहीं कोई भगवान नहीं है, नहीं, कोई भगवान नहीं है।

गीता, शास्त्र बाँचने वाले, स्त्री दृव्य कहाँ समझेंगे ?
पल में दूजा ब्याह रचाते, ये वैधव्य कहाँ समझेंगे।
अम्बे! इस दुनिया में अब भी, ऐसा चलन सुरक्षित क्यों हैं ?
पुरुष विधुर तो रहे शान से, स्त्री मगर उपेक्षित क्यों है ?

क्या मतलब है परम पिता का, अपनी देहरी भीख रही है।
कहीं कोई भगवान नहीं है, नहीं, कोई भगवान नहीं है।

4 Likes · 2 Comments · 336 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
रमेशराज के दो लोकगीत –
रमेशराज के दो लोकगीत –
कवि रमेशराज
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और  गृह स्
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और गृह स्
Sanjay ' शून्य'
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
Rj Anand Prajapati
परमपिता तेरी जय हो !
परमपिता तेरी जय हो !
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
ममतामयी मां
ममतामयी मां
SATPAL CHAUHAN
Is ret bhari tufano me
Is ret bhari tufano me
Sakshi Tripathi
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
Being an ICSE aspirant
Being an ICSE aspirant
Chahat
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
Anand Kumar
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
Dr MusafiR BaithA
यादों की है कसक निराली
यादों की है कसक निराली
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
# विचार
# विचार
DrLakshman Jha Parimal
जब एक ज़िंदगी
जब एक ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
gurudeenverma198
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
गुमनाम 'बाबा'
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
शोभा कुमारी
पहला खत
पहला खत
Mamta Rani
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
Neeraj Agarwal
3637.💐 *पूर्णिका* 💐
3637.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
विदंबना
विदंबना
Bodhisatva kastooriya
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
Sonam Puneet Dubey
" क्यूँ "
Dr. Kishan tandon kranti
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
झूठे से प्रेम नहीं,
झूठे से प्रेम नहीं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अपनी-अपनी विवशता
अपनी-अपनी विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)*
*सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)*
Ravi Prakash
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
Them: Binge social media
Them: Binge social media
पूर्वार्थ
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...