Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 4 min read

कहानी- ‘भूरा’

कहानी- ‘भूरा’
प्रतिभा सुमन शर्मा

भूरा एक मंदिर के बाहर बरामदे में सोता उठता था पूरा दिन। उसका घर ही था मंदिर का बरामदा। भूरा पता नहीं कहाँ से आया और न जाने कहाँ का था। गांव के बड़े बूढ़े भी नहीं बता पाए कि वह है कौन। भूरा खुद भी भूल चुका था अपने बचपन और जवानी के दिन। उसे उस बरामदे के सिवा कुछ याद भी नहीं था। फटी पुरानी-सी मोटी-सी शाल ओढ़े रहता और एक चप्पल वह भी इतनी जीर्णं थी कि उसमें भी छेद हो चुके थे। और हां, उसके हाथ मे एक कड़ा था। बस यही उसके जाति या धर्म की निशानी थी शायद। सुबह तड़के पांच बजे उठता और हां! भूरे की जम्हाई उस पूरे गांव को उठाती। उठते ही इतनी जोर की जम्हाई देता की पूरा गाँव उसकी जम्हाई से जग जाता। उठके मंदिर के भगवान को दंडवत करता और चल देता नदी में नहाने। जाड़ा हो या बारिश हो या हो कड़कती धूप। भूरा का यह कार्यक्रम कभी नहीं चुका। आकर फिर पूरा दिन मंदिर के बरामदे में बैठे रहना। मंदिर का पुजारी आता और उसे कुछ खाने को दे जाता। पुजारी के आने तक मंदिर की झाड़ू बुहारी भूरा ही करता। पर मंदिर के अंदर की सफाई पुजारी खुद करता वहां भूरा को जाने की अनुमति नहीं थी। बस महारीन आती और खाली मटके में पानी भर जाती। महारीन जवानी में ही विधवा हो बैठी थी
गांव में कुल सौ के करीब घर थे। एक पुजारी का ही घर था जो ठीक-ठीक बना हुआ था। बाकी सब कच्चे मकान थे। सरकारी कोई सुविधा अब तक गांव तक न पहुंची थी। न बिजली न पानी न सड़क। गांव के सारे लोग निचली जाति के थे एक पुजारी को छोड़ कर। गांव के लोग खेती-बाड़ी करके अपना पेट पालते थे और मिलजुल कर रहते आये थे। लड़ाई झगड़ा छोटी मोटी तकरार हो ही जाती थी कभी कभार। इस गांव की लडकी आस-पास के ही गांव में ही ब्याही जाती। और यहाँ के लड़कों की शादी आसपास के गांव में ही हो जाती।
शिक्षा का तो कहीं कोई नामो निशान नहीं था। इसलिए न ही कोई स्कूल था।
बस गांव में एक पुजारी ही था जो सबसे ज्यादा समझदार लगता। पर न जाने क्या सूझी पुजारी को आजकल वह महारीन को लेकर मंदिर के पीछे जाने लगा। महारीन भी बड़ी खुश खुश रहती थी आजकल चहकती रहती थी।
भूरा से यह बात न छुपी थी। एक दिन उनके मंदिर के पीछे जाने के कुछ देर बाद भूरा भी मंदिर के पीछे गया। और न जाने क्या देखा उसने कि पुजारी उसके पीछे बुहारी का झाड़ू लेकर भागा और उसकी खूब पिटाई की। जम कर मार पड़ी। गांव के कुछ लोग बीच बचाव के लिए आये पूछा भी भूरे से कि क्या हो गया ऐसा जो पुजारी तुमको खाना लाकर खिलाता है वह अचानक तुम्हारी जान का दुश्मन बन गया?
लोगों ने कितना ही पूछ लिया लेकिन भूरा ने एक शब्द भी किसी को कुछ कहा नहीं। बिल्कुल चुपचाप मंदिर के बरामदे में पड़ा रहा। पुजारी के घर से रोटी बंद होने से भूरा गांव में दो चार घर भीख मांग आता। जो कुछ बचा खुचा होता घरों में लोग दे देते।
दो तीन दिन बाद महारीन आई थी आज और उसने मंदिर के सारे मटको में पानी भर दिया। भूरा पड़े पड़े उसको देखता रहा। और महारीन भी बराबर भूरे को ही देख रही थी। न भूरा ने कुछ कहा न महारीन ने ही। लेकिन महारीन का राज बाहर आते देर नहीं लगी। थोड़े ही दिनों में सारे गांव में महारीन के बढ़ता पेट किसी से छुप न सका।
पुजारी महारीन को मंदिर के पीछे ले भी जाता और उसे मारता भी। आखिर भूरा ही महारीन को बचाता। महारीन के बढ़ते पेट के साथ साथ गांव के लोगों की बातें भी बढ़ी। कुछ जवान मर्दों की तो जात ही भ्र्ष्ट हो गयी महारीन के पेट से रहने से। अब वह दिन भर झोपड़ी में ही रहती पुजारी देता उतने से अपना पेट भरती। महारीन का जितना पेट बढा उतनी निचली जाती के लोगों की इज्जत घटी। सब ने मिलकर दूर गांव के बाहर एक गढ्ढा किया और महारीन को उस गढ्ढे में डाल दिया। और आजूबाजू से गढ्ढे में मिट्टी डालने लगे। भूरा को कुछ अंदेसा हुआ तो वह भी उधर भागा।
भूरा ने रहम की भीख मांगी और कहा कि मैं हूँ उसके बच्चे का बाप। और न जाने क्यों लोगों के हाथ रुक गए। भूरे को कहा कि तु ही हमारे घरों की झूठन पर पल रहा है और गांव से ही गद्दारी ? गांव की बहू बेटी संग मुँह काला किया? और खूब भला बुरा कहा उसे। सब के जाने के बाद, उसने महारीन को हाथ दिया और खड्डे से निकाला।
महारीन चुपचाप भूरे के साथ साथ चलने लगी। फिर भूरा मंदिर के बरामदे में बैठ गया और महारीन अपने झोपड़ी में चली गयी।
लेकिन दुनिया इधर की उधर हो गयी हो भूरा की जम्हाई पर लोगों का सुबह उठना उसी तरह चल रहा था। और दिन बीत रहे थे। उस दिन महारीन को पेट मे बहुत दर्द उठा मटके में पानी डालते-डालते। उससे चला भी नहीं जा रहा था। भूरा उसे धीरे-धीरे मंदिर के पीछे ले गया । इतने में पुजारी आया उसने देखा भूरा महारीन को सहारे से मंदिर के पीछे ले गया है।
पुजारी ने रोज की तरह निर्विकार ढंग से मंदिर की सफाई की, पूजा की जैसे उसको कोई फर्क ही न पड़ रहा हो। महारीन के ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने से उसके कान बैठे जा रहे थे पर मजाल है कि वह अपनी जगह से हिला भी?
थोड़ी देर में खून से सना बच्चा लेकर भूरा आया। और भूरे ने बताया महारीन न रही। पर पुजारी को कोई फर्क न पड़ा। वह अपना रोज का क्रिया कलाप करते ही चलता बना।
भूरे ने बच्चे को अपने हाथ मे लिया और बच्चे को धोती से पोंछा और नदी में नहलाने ले गया।

Language: Hindi
79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
Rj Anand Prajapati
" तार हूं मैं "
Dr Meenu Poonia
........,?
........,?
शेखर सिंह
गणतंत्र
गणतंत्र
लक्ष्मी सिंह
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
धूल के फूल
धूल के फूल
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ अमर बलिदानी तात्या टोपे
■ अमर बलिदानी तात्या टोपे
*Author प्रणय प्रभात*
अक्सर मां-बाप
अक्सर मां-बाप
Indu Singh
बर्फ
बर्फ
Santosh kumar Miri
फनकार
फनकार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ऊँचाई .....
ऊँचाई .....
sushil sarna
यारों का यार भगतसिंह
यारों का यार भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
3004.*पूर्णिका*
3004.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
Arvind trivedi
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
पूर्वार्थ
ना तो कला को सम्मान ,
ना तो कला को सम्मान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कहने को बाकी क्या रह गया
कहने को बाकी क्या रह गया
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
"जगत-जननी"
Dr. Kishan tandon kranti
कचनार kachanar
कचनार kachanar
Mohan Pandey
नहीं चाहता मैं यह
नहीं चाहता मैं यह
gurudeenverma198
मतदान
मतदान
Dr Archana Gupta
*महाराज श्री अग्रसेन को, सौ-सौ बार प्रणाम है  【गीत】*
*महाराज श्री अग्रसेन को, सौ-सौ बार प्रणाम है 【गीत】*
Ravi Prakash
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
Phool gufran
खींच तान के बात को लम्बा करना है ।
खींच तान के बात को लम्बा करना है ।
Moin Ahmed Aazad
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परिपक्वता
परिपक्वता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...