Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 1 min read

कहाँ समझते हैं ……….

कोई समझता है सारे कहाँ समझते हैं
तमाम लोग इशारे कहाँ समझते हैं

हम ऐसे लोगों से पूछो मक़ाम की क़ीमत
जिन्हें मिले हों सहारे कहाँ समझते हैं

किसी के इश्क़ में बहती नदी की मजबूरी
शदीद प्यास के मारे कहाँ समझते हैं

न जाने कौन सा लम्हा ज़मीं पे ले आये
फ़लक पे झूमते तारे कहाँ समझते हैं

बस इतना सोच के कश्ती में भर लिया पानी
नदी का दर्द किनारे कहाँ समझते हैं

सुलगते सहरा में भटका हुआ मुसाफ़िर हूँ
मुझे चमन के नज़ारे कहाँ समझते हैं
~Aadarsh Dubey

1 Like · 212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
आब त रावणक राज्य अछि  सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
आब त रावणक राज्य अछि सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
DrLakshman Jha Parimal
!!! भिंड भ्रमण की झलकियां !!!
!!! भिंड भ्रमण की झलकियां !!!
जगदीश लववंशी
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
Sanjay ' शून्य'
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
मतदान
मतदान
Aruna Dogra Sharma
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कल की फिक्र में
कल की फिक्र में
shabina. Naaz
एक ज़माना था .....
एक ज़माना था .....
Nitesh Shah
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
SPK Sachin Lodhi
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
2978.*पूर्णिका*
2978.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
Neelam Sharma
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
Shashi kala vyas
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
Ravi Prakash
संवेदना की आस
संवेदना की आस
Ritu Asooja
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
आज अचानक फिर वही,
आज अचानक फिर वही,
sushil sarna
रक्त संबंध
रक्त संबंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
चाय की घूंट और तुम्हारी गली
चाय की घूंट और तुम्हारी गली
Aman Kumar Holy
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
शेखर सिंह
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
Loading...