Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2023 · 1 min read

‘कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली’ कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA

राजा भोज में क्या खासियत थी और गंगू तेली में कौन सी खराबी थी?

‘कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली’

-उपर्युक्त कहावत त्याज्य है। वैसे, उसके उपयोग के लिए एक राइडर है, अपवाद है जिसे मैं नीचे डिस्कस कर रहा हूँ।

इस कहावत का राजा अपर हैण्ड पा रहा है, हैसियत वाला है, जबकि गंगू तेली गरीब है, राजा के सामने में शून्य हैसियत का है, यह साफ संकेतित है।

जाहिर है, अमीरी के समर्थन और गरीबी के अपमान में कहावत किसी ने बनाई है। अमीरी का समर्थन एक तरह से जायज हो भी सकता है, यह तब जायज होगा जब ईमानदारी से अर्जित अमीरी होगी और इसके बरक्स असहायता एवं निरूपायता से उपजी गरीबी का मज़ाक़ न बनाया जाए, उसे हेय न समझा जाए।

Language: Hindi
314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
शेखर सिंह
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शादी वो पिंजरा है जहा पंख कतरने की जरूरत नहीं होती
शादी वो पिंजरा है जहा पंख कतरने की जरूरत नहीं होती
Mohan Bamniya
💐प्रेम कौतुक-551💐
💐प्रेम कौतुक-551💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मज़दूर
मज़दूर
Shekhar Chandra Mitra
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
Suryakant Dwivedi
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक,  तूँ  है
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक, तूँ है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जब भी अपनी दांत दिखाते
जब भी अपनी दांत दिखाते
AJAY AMITABH SUMAN
सिर्फ खुशी में आना तुम
सिर्फ खुशी में आना तुम
Jitendra Chhonkar
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
* घर में खाना घर के भीतर,रहना अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/ गीत
* घर में खाना घर के भीतर,रहना अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/ गीत
Ravi Prakash
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
Dr fauzia Naseem shad
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
Atul "Krishn"
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
मजदूर
मजदूर
Dr Archana Gupta
शिछा-दोष
शिछा-दोष
Bodhisatva kastooriya
तुमसे करता हूँ मोहब्बत मैं जैसी
तुमसे करता हूँ मोहब्बत मैं जैसी
gurudeenverma198
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
*नज़ाकत या उल्फत*
*नज़ाकत या उल्फत*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आक्रोश प्रेम का
आक्रोश प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
Loading...