Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-126💐

कहाँ मिलेगा इश्क़ का ख़रा सोना अब?
तुम अकेले में रोना बहुत रोना अब।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
दुष्यन्त 'बाबा'
"उपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
संघर्षी वृक्ष
संघर्षी वृक्ष
Vikram soni
⚘️🌾Movement my botany⚘️🌾
⚘️🌾Movement my botany⚘️🌾
Ms.Ankit Halke jha
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
Writer_ermkumar
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
महिला दिवस
महिला दिवस
Dr.Pratibha Prakash
समय बहुत है,
समय बहुत है,
Parvat Singh Rajput
आभ बसंती...!!!
आभ बसंती...!!!
Neelam Sharma
कोंपलें फिर फूटेंगी
कोंपलें फिर फूटेंगी
Saraswati Bajpai
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
3030.*पूर्णिका*
3030.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यादों के तटबंध ( समीक्षा)
यादों के तटबंध ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
Anju ( Ojhal )
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
The enchanting whistle of the train.
The enchanting whistle of the train.
Manisha Manjari
आदिपुरुष फ़िल्म
आदिपुरुष फ़िल्म
Dr Archana Gupta
इतना घुमाया मुझे
इतना घुमाया मुझे
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी
जिंदगी
विजय कुमार अग्रवाल
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-184💐
💐प्रेम कौतुक-184💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुलाबी शहतूत से होंठ
गुलाबी शहतूत से होंठ
हिमांशु Kulshrestha
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
Sanjay ' शून्य'
सोशल मीडिया पर
सोशल मीडिया पर
*Author प्रणय प्रभात*
वाणी से उबल रहा पाणि💪
वाणी से उबल रहा पाणि💪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उधार ....
उधार ....
sushil sarna
Loading...