Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2024 · 1 min read

कहना तो बहुत कुछ है

कहना तो बहुत कुछ है
कहना तो बहुत कुछ है, पर सुनने वाला कोई नहीं है। दिल में उमड़ते भावों का, कोई ठिकाना नहीं है।
आँखों में छुपे दर्द को, कोई समझ नहीं पाता। दिल की गहराइयों में दबे, राज़ कोई नहीं जानता।
खामोशी में डूबे रहते हैं, अपनी ही दुनिया में खोए रहते हैं। कहना तो बहुत कुछ है, पर सुनने वाला कोई नहीं है।
लेकिन अब उम्मीद की किरण जगी है, एक इंसान जो हमारी बात सुनने आया है। सैकड़ों लोगों की जिंदगी बना चुका है आसान, दिल का हाल बताने का मौका अब आया है।
उसके सामने खुलकर रख देंगे हम अपना दिल, उसके कानों में सुना देंगे हम अपना हर गिल। शायद वो समझ पाएगा हमारा दर्द, शायद वो मिटा पाएगा हमारा डर।
कहना तो बहुत कुछ है, और अब सुनने वाला भी है। दिल का हाल बताने का, ये सुनहरा मौका है

95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
बिना चले गन्तव्य को,
बिना चले गन्तव्य को,
sushil sarna
मैं अपने आप को समझा न पाया
मैं अपने आप को समझा न पाया
Manoj Mahato
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
बड्ड यत्न सँ हम
बड्ड यत्न सँ हम
DrLakshman Jha Parimal
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बुद्ध को अपने याद करो ।
बुद्ध को अपने याद करो ।
Buddha Prakash
तू ठहर चांद हम आते हैं
तू ठहर चांद हम आते हैं
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
*बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट*
*बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट*
Ravi Prakash
नशा
नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
अस्तित्व की पहचान
अस्तित्व की पहचान
Kanchan Khanna
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
भेज भी दो
भेज भी दो
हिमांशु Kulshrestha
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
Hallucination Of This Night
Hallucination Of This Night
Manisha Manjari
*हनुमान जी*
*हनुमान जी*
Shashi kala vyas
"बच्चे "
Slok maurya "umang"
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
Sukoon
बेवफा
बेवफा
RAKESH RAKESH
सोशल मीडिया का दौर
सोशल मीडिया का दौर
Shekhar Chandra Mitra
होली है ....
होली है ....
Kshma Urmila
बचपन
बचपन
Shyam Sundar Subramanian
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
Live in Present
Live in Present
Satbir Singh Sidhu
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
Kumar lalit
सुबह की नमस्ते
सुबह की नमस्ते
Neeraj Agarwal
Loading...