Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

कसम, कसम, हाँ तेरी कसम

कसम,कसम, हाँ तेरी कसम।
करते हैं प्यार तुमको हम।।
इसमें नहीं है कोई शक।
चाहते हैं दिल से तुमको हम।।
कसम, कसम, हाँ——————-।।

आवो करीब, खत यह पढ़ो तुम।
तस्वीर,चेहरा यह देखो तुम।।
कुछ भी फरेब इसमें नहीं है।
वफ़ा करते हैं तुमसे हम।।
कसम,कसम, हाँ——————।।

रोशन हैं तारें, यह प्यार देखकर।
महके हैं फूल, यह मिलन देखकर।।
अब कोई डर तुमको नहीं हो।
थामे हैं दामन तेरा हम।।
कसम, कसम, हाँ—————–।।

कुछ पल का नहीं, साथ हमारा।
उम्रभर का रहेगा, साथ हमारा।।
तुमको बेरोशन नहीं होने देंगे।
कुर्बान हैं दिल से तुझपे हम।।
कसम,कसम, हाँ——————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
कृष्णकांत गुर्जर
जवाब के इन्तजार में हूँ
जवाब के इन्तजार में हूँ
Pratibha Pandey
2450.पूर्णिका
2450.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
गम हमें होगा बहुत
गम हमें होगा बहुत
VINOD CHAUHAN
ओम् के दोहे
ओम् के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
#प्रातःवंदन
#प्रातःवंदन
*प्रणय प्रभात*
*क्या देखते हो *
*क्या देखते हो *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*उठो,उठाओ आगे को बढ़ाओ*
*उठो,उठाओ आगे को बढ़ाओ*
Krishna Manshi
सुबह सुबह की चाय
सुबह सुबह की चाय
Neeraj Agarwal
23)”बसंत पंचमी दिवस”
23)”बसंत पंचमी दिवस”
Sapna Arora
मुस्कुराते हुए सब बता दो।
मुस्कुराते हुए सब बता दो।
surenderpal vaidya
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Mukesh Kumar Sonkar
ज़िंदगी नाम बस
ज़िंदगी नाम बस
Dr fauzia Naseem shad
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
Akash Yadav
जिस तरह
जिस तरह
ओंकार मिश्र
लिखना
लिखना
Shweta Soni
गमों को हटा चल खुशियां मनाते हैं
गमों को हटा चल खुशियां मनाते हैं
Keshav kishor Kumar
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
माता - पिता
माता - पिता
Umender kumar
45...Ramal musaddas maKHbuun
45...Ramal musaddas maKHbuun
sushil yadav
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
प्रभु श्रीराम
प्रभु श्रीराम
Dr. Upasana Pandey
लोग गर्व से कहते हैं मै मर्द का बच्चा हूँ
लोग गर्व से कहते हैं मै मर्द का बच्चा हूँ
शेखर सिंह
भोर
भोर
Kanchan Khanna
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
Loading...