Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-295💐

कसकती है चोट’बे-एतिबार’ की,क्या कीजिएगा,
ख़ुद की मुस्कुराहट,फूलों के संग भेज दीजिएगा।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
46 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
gpoddarmkg
The OCD Psychologist
The OCD Psychologist
मोहित शर्मा ज़हन
ज़रूरी तो नहीं
ज़रूरी तो नहीं
Surinder blackpen
"गाँव की सड़क" कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत, गुजरात!
Radhakishan Mundhra
अनमोल घड़ी
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
बौराये-से फूल /
बौराये-से फूल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
Manisha Manjari
आकाश के नीचे
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
ख़ुश-फ़हमी
ख़ुश-फ़हमी
Fuzail Sardhanvi
"हँसता था पहाड़"
Dr. Kishan tandon kranti
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
gurudeenverma198
1...
1...
Kumud Srivastava
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
पूर्वार्थ
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-535💐
💐प्रेम कौतुक-535💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपना ख़याल तुम रखना
अपना ख़याल तुम रखना
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
Anis Shah
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
होली की मुबारकबाद
होली की मुबारकबाद
Shekhar Chandra Mitra
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
Prabhu Nath Chaturvedi
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
Dr Archana Gupta
भरमाभुत
भरमाभुत
Vijay kannauje
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
Anil chobisa
क़ानून का जनाज़ा तो बेटा
क़ानून का जनाज़ा तो बेटा
*Author प्रणय प्रभात*
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Sakshi Tripathi
हरि घर होय बसेरा
हरि घर होय बसेरा
Satish Srijan
वक़्त की रफ़्तार को
वक़्त की रफ़्तार को
Dr fauzia Naseem shad
Loading...