Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 5, 2017 · 1 min read

कश्मीर की तस्वीर

एक दिन सपने में देखा अपना प्यारा कश्मीर,
“स्वर्ग से सुंदर ” धरा की उजड़ी हुई तस्वीर I

आदमी को आदमी का लहू पीते देखा ,
इंसान को भेड़-बकरियों की तरह बिकते देखा ,
बूढी आँखों में बेबसी के दर्दों को देखा ,
बिछड़े दिलों में “हिंदुस्तान से प्यार देखा” I

एक दिन सपने में देखा अपना प्यारा कश्मीर,
“स्वर्ग से सुंदर ”धरा की उजड़ी हुई तस्वीर I

शस्य-श्यामला धरती पर मचा कैसा कोहराम ?
लड़तें हैं अपनों से, उन्हें चाहिए बस अलग नाम ,
भूल गए “जहाँ के मालिक” का भी प्यारा पैगाम,
जिंदगी लेना-देना केवल उस मालिक का है काम I

एक दिन सपने में देखा अपना प्यारा कश्मीर,
“स्वर्ग से सुंदर ”धरा की उजड़ी हुई तस्वीर I

“भारत के मस्तक” पर मेरे दोस्त ने नज़र डाली ,
“भूल गया अंजाम-ए-हस्र ” फिर भी नज़र डाली,
“शीशे के महल” में रहने वालों ने नज़र डाली,
“लोकतंत्र’ का दम तोड़ने वालों ने नज़र डाली I

एक दिन सपने में देखा अपना प्यारा कश्मीर,
“स्वर्ग से सुंदर ”धरा की उजड़ी हुई तस्वीर I

“ राज ” सपने का मकसद गया जान,
अब न रह गया वह इससे अनजान ,
“कफ़न” बेचने वाले चला रहे अपनी दुकान,
सदैव रहेगा सिरमौर कश्मीर महान ,कश्मीर महान I

देशराज “राज”
कानपुर

1 Like · 1 Comment · 516 Views
You may also like:
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
विधि के दो वरदान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऐसा क्या है तुझमें
gurudeenverma198
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
सुरत और सिरत
Anamika Singh
तेरे वजूद को।
Taj Mohammad
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
✍️आईने लापता मिले✍️
'अशांत' शेखर
नई तकदीर
मनोज कर्ण
राहतें ना थी।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा : सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
बात होती है सब नसीबों की।
सत्य कुमार प्रेमी
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️✍️रूपया✍️✍️
'अशांत' शेखर
इश्क़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लाल टोपी
मनोज कर्ण
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती हैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️फासले थे✍️
'अशांत' शेखर
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझे छल रहे थे
Anamika Singh
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Human Brain
Buddha Prakash
कर्म का मर्म
Pooja Singh
हक़ीक़त न पूछिये मुफलिसी के दर्द की।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...