Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 2 min read

कविता

                     28 मई, 2016 को नई दिल्ली के नारायण दत्त तिवारी भवन में हुए अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में पढ़ी गई मेरी कविता
एक पन्ने पर कहीं तो
———————
मैं नहीं धृतराष्ट्र का प्रिय पुत्र दुर्योधन,
जिसे सब कुछ मिला था जन्म से ही।
मैं नहीं गुरू द्रोण का प्रिय शिष्य अर्जुन,
जो रहा प्रभु स्नेह का भाजन सदा ही।
मैं नहीं अभिमन्यु, जिसने पा लिया था
ज्ञान का वरदान, माँ के गर्भ में ही।
मैं नहीं वह सूर्य का सुत कर्ण,
जो जन्मा जगत में, ले सुरक्षा का कवच ही।

प्रश्न है फिर कौन हूँ मैं? 

मैं वही हूँ दीन, सुविधाहीन, वनवासी धनुर्धर 
जो न था इस योग्य,
उसको कोई भूमि से उठाता,
और सीने से लगाता,
कुछ बताता, कुछ सिखाता।
किन्तु मैंने प्राप्त कर ली जब निपुणता
निज यतन से, प्राण पण से
यह व्यवस्था आ गई मुझको सताने,
यह बताने
दी नहीं गुरुदक्षिणा मैंने अभी तक।

यह व्यवस्था, जो नहीं देती कभी कुछ,
किन्तु तत्पर है हमेशा छीनने को।
यह व्यवस्था, जो नहीं प्रतिभा परखती,
यह व्यवस्था, जो सदा सम्पन्नता के साथ रहती।
यह व्यवस्था, जो दिखाती स्वप्न झूठा,
और जैसे ही मिले अवसर, कपट से
माँग लेती है अँगूठा।

यह व्यवस्था, दे न दे वह मान मुझको,
सिद्ध है जिस पर मेरा हक़।
पर लिखेगा काल जब अपनी कहानी,
हर किसी के काम का लेखा करेगा।
इन सभी योद्धाओं का गुणगान करके,
पृष्ठ कितने ही भरेगा।
पर वही पहचान कर सामर्थ्य मेरी,
श्रेष्ठता मेरी परख कर,
एक पल को तो रूकेगा।
और अपनी पोथियों में, एक पन्ने पर कहीं तो,
ज़िक्र मेरा भी करेगा,
नाम मेरा भी लिखेगा।
नाम मेरा भी लिखेगा, ज़िक्र मेरा भी करेगा।

—–बृज राज किशोर

Language: Hindi
490 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्रद्धा
श्रद्धा
मनोज कर्ण
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
💐प्रेम कौतुक-534💐
💐प्रेम कौतुक-534💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
Anil Mishra Prahari
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
Manisha Manjari
कर्त्तव्य
कर्त्तव्य
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हार कर भी जो न हारे
हार कर भी जो न हारे
AMRESH KUMAR VERMA
*दोहा*
*दोहा*
Ravi Prakash
Mai deewana ho hi gya
Mai deewana ho hi gya
Swami Ganganiya
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
gurudeenverma198
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
मैं और दर्पण
मैं और दर्पण
Seema gupta,Alwar
प्रकृति का बलात्कार
प्रकृति का बलात्कार
Atul "Krishn"
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
दुकान में रहकर सीखा
दुकान में रहकर सीखा
Ms.Ankit Halke jha
प्रेम जब निर्मल होता है,
प्रेम जब निर्मल होता है,
हिमांशु Kulshrestha
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
मेरा दर्पण
मेरा दर्पण
Shiva Awasthi
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
Kshma Urmila
” INDOLENCE VS STRENUOUS”
” INDOLENCE VS STRENUOUS”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...