Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 2 min read

कविता

                     28 मई, 2016 को नई दिल्ली के नारायण दत्त तिवारी भवन में हुए अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में पढ़ी गई मेरी कविता
एक पन्ने पर कहीं तो
———————
मैं नहीं धृतराष्ट्र का प्रिय पुत्र दुर्योधन,
जिसे सब कुछ मिला था जन्म से ही।
मैं नहीं गुरू द्रोण का प्रिय शिष्य अर्जुन,
जो रहा प्रभु स्नेह का भाजन सदा ही।
मैं नहीं अभिमन्यु, जिसने पा लिया था
ज्ञान का वरदान, माँ के गर्भ में ही।
मैं नहीं वह सूर्य का सुत कर्ण,
जो जन्मा जगत में, ले सुरक्षा का कवच ही।

प्रश्न है फिर कौन हूँ मैं? 

मैं वही हूँ दीन, सुविधाहीन, वनवासी धनुर्धर 
जो न था इस योग्य,
उसको कोई भूमि से उठाता,
और सीने से लगाता,
कुछ बताता, कुछ सिखाता।
किन्तु मैंने प्राप्त कर ली जब निपुणता
निज यतन से, प्राण पण से
यह व्यवस्था आ गई मुझको सताने,
यह बताने
दी नहीं गुरुदक्षिणा मैंने अभी तक।

यह व्यवस्था, जो नहीं देती कभी कुछ,
किन्तु तत्पर है हमेशा छीनने को।
यह व्यवस्था, जो नहीं प्रतिभा परखती,
यह व्यवस्था, जो सदा सम्पन्नता के साथ रहती।
यह व्यवस्था, जो दिखाती स्वप्न झूठा,
और जैसे ही मिले अवसर, कपट से
माँग लेती है अँगूठा।

यह व्यवस्था, दे न दे वह मान मुझको,
सिद्ध है जिस पर मेरा हक़।
पर लिखेगा काल जब अपनी कहानी,
हर किसी के काम का लेखा करेगा।
इन सभी योद्धाओं का गुणगान करके,
पृष्ठ कितने ही भरेगा।
पर वही पहचान कर सामर्थ्य मेरी,
श्रेष्ठता मेरी परख कर,
एक पल को तो रूकेगा।
और अपनी पोथियों में, एक पन्ने पर कहीं तो,
ज़िक्र मेरा भी करेगा,
नाम मेरा भी लिखेगा।
नाम मेरा भी लिखेगा, ज़िक्र मेरा भी करेगा।

—–बृज राज किशोर

Language: Hindi
Tag: कविता
362 Views
You may also like:
घड़ी
AMRESH KUMAR VERMA
अविश्वास की बेड़ियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चाहे मत छूने दो मुझको
gurudeenverma198
वेदनापूर्ण लय है
Varun Singh Gautam
*दौड़ (अतुकान्त कविता)*
Ravi Prakash
मां के तट पर
जगदीश लववंशी
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Writing Challenge- इंद्रधनुष (Rainbow)
Sahityapedia
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
खुद को पुनः बनाना
Kavita Chouhan
- में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार -
bharat gehlot
मुलाक़ात पहली मगर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये कैसी तडपन है, ये कैसी प्यास है
Ram Krishan Rastogi
बाग़ी फ़नकार
Shekhar Chandra Mitra
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
घर की इज्ज़त।
Taj Mohammad
बरसात और बाढ़
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
तेरी याद
Umender kumar
समय का इम्तिहान
Saraswati Bajpai
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
समय और मेहनत
Anamika Singh
✍️मानव का वर्तन
'अशांत' शेखर
तुम्हारी शोख़ अदाएं
VINOD KUMAR CHAUHAN
poem
पंकज ललितपुर
मनुज शरीरों में भी वंदा, पशुवत जीवन जीता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit kumar
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
Loading...