Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 1 min read

कविता

आँगन में घुटनों को मोड़े
हत्या लगे व्यक्ति सी बैठी, है
उसकी माँ, जिसकी बेटी भाग गई है।
बोझ बन चुके प्रश्न सभी के, दो आँखों से निचुड रहें हैं।
“कैसी माँ हो ? दिखा नहीं कुछ ?
तुम ही उसको सह देती थी!”
“नहीं परवरिश हुई ठीक से, इसी लिए ये दिन देखा है।”
दुनिया की आँखों से बिंध कर घर लौटे पतिदेव उसे ही कोस चुके हैं।
और भला क्या कर सकते हैं !

सोच रही है, कल ही जब मेहमान अचानक घर आए थे, सबने बोला
“खाने वाले का दाने पर नाम लिखा है।”

उनको जब नौकरी मिली थी, और
पड़ोसी फेल हुआ,
तो सबने बोला,
“किस्मत है ये,
“मेहनत क्या है ? सब करते हैं।
खुद उसका जब ब्याह हुआ था
, इतनी दूर –
अमेले वर से,
माँ बोली थी, “नियति तुम्हारी।”
दादी, पिता, पड़ोसी सबने यही कहा था,
”जोड़ी तो भगवान बनाए।
“किस्मत में जो लिखवाया था वो पाया है।”

अब जब बेटी भाग गई है, क्यों कोई ये नहीं बोलता –
“जाति, प्रथाएं, नियम, परवरिश, संस्कार सब एक तरफ हैं।”
“एक तरफ ब्रम्हा का लेखा।”
अब कोई क्यों नहीं बोलता,
“उसके लिए नियत वर था वो ?”
“दाने तक पर लिखा हुआ है खाने वाला,” अब कोई क्यों नहीं बोलता ?
©शिवा अवस्थी ‘शिवा’

1 Like · 357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कल आज और कल
कल आज और कल
Omee Bhargava
💐💞💐
💐💞💐
शेखर सिंह
"अल्फाज दिल के "
Yogendra Chaturwedi
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
Seema gupta,Alwar
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
"निशान"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
"प्यार का सफ़र" (सवैया छंद काव्य)
Pushpraj Anant
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
3004.*पूर्णिका*
3004.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
The_dk_poetry
■ आज़ाद भारत के दूसरे पटेल।
■ आज़ाद भारत के दूसरे पटेल।
*Author प्रणय प्रभात*
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बिन मौसम बरसात
बिन मौसम बरसात
लक्ष्मी सिंह
How to say!
How to say!
Bidyadhar Mantry
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
नारी शक्ति
नारी शक्ति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या वैसी हो सच में तुम
क्या वैसी हो सच में तुम
gurudeenverma198
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
राज वीर शर्मा
चाँद
चाँद
TARAN VERMA
*वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)*
*वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
झुग्गियाँ
झुग्गियाँ
नाथ सोनांचली
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
Loading...