Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2016 · 1 min read

कविता :– होता अगर मेरे पास भाई !!

कविता :– होता अगर मेरे पास भाई !!

होता अगर मेरे पास भाई !
खुश होते मेरे बापू और माई !!

माँ-बाप की किस्मत का तारा वो होता ,
रात दिन आँखों कि पलको मे सोता ,
मुझे प्यार से वो कहता बहन ,
गुस्से मे आता , मै करती सहन ,
कभी न छिपाती मै उससे सच्चाई ,
अगर होता मेरे पास भाई !
खुश होते मेरे बापू और माई !!

सपनो कि मंजिल की सीढ़ वो होता,
रात-दिन नये-नये ख्वाबों को संजोता ,
जब आता त्योहार भाई-बहन का ,
राजा बनाती उसे अपने मन का ,
रक्षाबंधन के दिन मै देखू कलाई ,
अगर होता मेरे पास भाई !
खुश होते मेरे बापू और माई !!

बड़ा हो जब वो पढ़ने को जाता ,
माँ-बाप का जग मे नाम कमाता ,
छूता कभी वो ना गाँजा शराब ,
संगत कभी वो न करता खराब ,
मेरे घर बजती उसकी सहनाई ,
अगर होता मेरे पास भाई !
खुश होते मेरे बापू और माई !!

सुख-दुःख मे न कभी ईमान खोता ,
दे साथ धर्म का , धर्म को न खोता ,
पढ़ा-लिखा उसे मै इन्जीनियर बनाती ,
पर जो बात उसके दिल को लुभाती ,
उसी बात की मै करती बड़ाई ,
अगर होता मेरे पास भाई !
खुश होते मेरे बापू और माई !!

“हे ईस ! तू मुझे बता ,
क्यो मुझे तू भाई न दिया ,
क्या अपराध है मेरा भगवन ,
आज न कहता कोई मुझको बहन ,
उम्र भर न आती ये गम की खाई ,
अगर होता मेरे पास भाई !
खुश होते मेरे बापू और माई !!

कवि :- अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
1 Like · 469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
Wakt ke pahredar
Wakt ke pahredar
Sakshi Tripathi
तू नर नहीं नारायण है
तू नर नहीं नारायण है
Dr. Upasana Pandey
फिर भी तो बाकी है
फिर भी तो बाकी है
gurudeenverma198
सीरिया रानी
सीरिया रानी
Dr. Mulla Adam Ali
दीवाली
दीवाली
Mukesh Kumar Sonkar
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
बचपन
बचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
Dr Tabassum Jahan
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
कवि दीपक बवेजा
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
So, blessed by you , mom
So, blessed by you , mom
Rajan Sharma
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
Today's Reality: Is it true?
Today's Reality: Is it true?
पूर्वार्थ
भाई
भाई
Kanchan verma
बापक भाषा
बापक भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
Ranjeet kumar patre
पर्वत को आसमान छूने के लिए
पर्वत को आसमान छूने के लिए
उमेश बैरवा
3378⚘ *पूर्णिका* ⚘
3378⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
सारा रा रा
सारा रा रा
Sanjay ' शून्य'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
इंजी. संजय श्रीवास्तव
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
ईश्वर की कृपा
ईश्वर की कृपा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आओ सर्दी की बाहों में खो जाएं
आओ सर्दी की बाहों में खो जाएं
नूरफातिमा खातून नूरी
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...