Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2023 · 1 min read

कविता ही हो /

नीचे गिरकर
नहीं उठाना
कुछ भी हो,
कविता ही हो ।

उदरम्भरि
अनात्म नहीं हम,
कर्मशील हैं,
उठा कुदाली
पर्वत खोदा,
श्रम का बाग
उगाया हमने ;
चुचवाकर
दिन-रात पसीना
इस शरीर का,
हिम्मतवाला
हिकमत वाला
घर-संसार
सजाया हमने ;

बिन मेहनत का
नहीं है पाना
कुछ भी हो
कविता ही हो ।

चारण-भारण-
भाट नहीं हम,
केवल कवि हैं
मौलिक चिंतन
की धरती पर
शब्द प्यार के
उगा रहे हैं ;
आँखों-आँखों,
नाकों-नाकों
पर,अनुशासन–
स्वाभिमान का
बुझता दीपक
जला रहे हैं ;

जूठ-चबैना
नहीं चबाना
कुछ भी हो
कविता ही हो ।

चाव नहीं है
तनिक हमें भी
कवि मंचों पर
मिले लिफाफा,
झूठे तमगे
और प्रसंशा
नहीं चाहिए ;
सदियों से प्रति-
शोध लिया है
सत्ताओं से
अब भी लेंगे,
काँटे हैं हम !
सुमन-सहारा
नहीं चाहिए ;

बहती गंगा
नहीं नहाना
कुछ भी हो
कविता ही हो ।

नीचे गिरकर
नहीं उठाना
कुछ भी हो
कविता ही हो ।
०००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली),सागर
मध्यप्रदेश – 470227
मो.- 8463884927

Language: Hindi
Tag: गीत
10 Likes · 20 Comments · 360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
'अशांत' शेखर
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
ख्वाहिशें आँगन की मिट्टी में, दम तोड़ती हुई सी सो गयी, दरार पड़ी दीवारों की ईंटें भी चोरी हो गयीं।
ख्वाहिशें आँगन की मिट्टी में, दम तोड़ती हुई सी सो गयी, दरार पड़ी दीवारों की ईंटें भी चोरी हो गयीं।
Manisha Manjari
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
Sidhartha Mishra
'अ' अनार से
'अ' अनार से
Dr. Kishan tandon kranti
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
दोहे तरुण के।
दोहे तरुण के।
Pankaj sharma Tarun
कविता की महत्ता।
कविता की महत्ता।
Rj Anand Prajapati
भारत शांति के लिए
भारत शांति के लिए
नेताम आर सी
वर्णमाला हिंदी grammer by abhijeet kumar मंडल(saifganj539 (
वर्णमाला हिंदी grammer by abhijeet kumar मंडल(saifganj539 (
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
प्रेमदास वसु सुरेखा
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
धनानि भूमौ पशवश्च गोष्ठे भार्या गृहद्वारि जनः श्मशाने। देहश्
धनानि भूमौ पशवश्च गोष्ठे भार्या गृहद्वारि जनः श्मशाने। देहश्
Satyaveer vaishnav
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
विधा - गीत
विधा - गीत
Harminder Kaur
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
बहाव के विरुद्ध कश्ती वही चला पाते जिनका हौसला अंबर की तरह ब
बहाव के विरुद्ध कश्ती वही चला पाते जिनका हौसला अंबर की तरह ब
Dr.Priya Soni Khare
अतीत का गौरव गान
अतीत का गौरव गान
Shekhar Chandra Mitra
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
हंस
हंस
Dr. Seema Varma
■ विडंबना-
■ विडंबना-
*Author प्रणय प्रभात*
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
Arvind trivedi
Loading...