Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Sep 2016 · 1 min read

कविता :– संघर्ष

कविता :– संघर्ष !!

संघर्ष करो ! संघर्ष करो !
संघर्ष करो ! संघर्ष करो !!

संघर्ष हो जीने का मक़सद ,
संघर्ष बिना क्या जीना है !
पर जो संघर्ष ना कर सके ,
जीने से बेहतर मरना है !
“संघर्ष”शब्द में “हर्ष” छिपा ,
जो खुशहाली लाता है !
संघर्ष ना करने वालों का
मस्तक नीचा हो जाता है !!
आकर के इन राहों में
जीवन में उत्कर्ष भरो !

संघर्ष करो ! संघर्ष करो !
संघर्ष करो ! संघर्ष करो !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 1228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
हाइकु
हाइकु
Prakash Chandra
आंख खोलो और देख लो
आंख खोलो और देख लो
Shekhar Chandra Mitra
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
The_dk_poetry
जालिम
जालिम
Satish Srijan
भीम षोडशी
भीम षोडशी
SHAILESH MOHAN
"तोल के बोल"
Dr. Kishan tandon kranti
बदलाव
बदलाव
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
जीवन उर्जा ईश्वर का वरदान है।
जीवन उर्जा ईश्वर का वरदान है।
Anamika Singh
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
नारी है तू
नारी है तू
Dr. Meenakshi Sharma
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
दीपावली
दीपावली
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
■ आज की ग़ज़ल-
■ आज की ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-95💐
💐अज्ञात के प्रति-95💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
Ram Krishan Rastogi
संत कबीरदास
संत कबीरदास
Pravesh Shinde
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
♥️मां पापा ♥️
♥️मां पापा ♥️
Vandna thakur
फूल सूखी डाल पर  खिलते  नहीं  कचनार  के
फूल सूखी डाल पर खिलते नहीं कचनार के
Anil Mishra Prahari
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
कहानी-
कहानी- "खरीदी हुई औरत।" प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...