Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2023 · 1 min read

कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं

शिश्कियाँ,बेचैनियां,अब सही जातीं नहीं..
काली सी दुनिया ,मन भी हैं काले
काली सी रातें ये काले से सपने,
धुंवा सा है फैला क्या पूरे शहर में।
चुन लाओ कोई
वो प्यारे से नग्मे,
वो सोने की चिड़िया
वो सुनहरा सवेरा..
लौट आओ फिर से
तुम अपने जहाँ में,
पुकारे तुम्हे
ये गुलिशता तुम्हारा
कहाँ खो गया,हिन्दोस्तां हमारा ।

अब नहीं तो कब करोगे
डर रहे,कब तक डरोगे
देखते ही देखते,
सबकुछ ख़त्म हो जायेगा
अब संभल भी, जा तू बन्दे
जीते जी मर जायेगा
शिश्कियां,बेचैनियां
अब सही जाती नहीं,
गुस्ताखियां,बर्बादियां
अब सही जाती नहीं

हम फिर से जगमग चाँद बने
फिर रोशन नया सवेरा हो,
आशाओं और उम्मीदों का
फिर से यहाँ बसेरा हो..

Language: Hindi
285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं अपने दिल में मुस्तकबिल नहीं बनाऊंगा
मैं अपने दिल में मुस्तकबिल नहीं बनाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
राष्ट्र भाषा राज भाषा
राष्ट्र भाषा राज भाषा
Dinesh Gupta
मेला
मेला
Dr.Priya Soni Khare
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
Anil Mishra Prahari
💐अज्ञात के प्रति-126💐
💐अज्ञात के प्रति-126💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*जिंदगी के युद्ध में, मत हार जाना चाहिए (गीतिका)*
*जिंदगी के युद्ध में, मत हार जाना चाहिए (गीतिका)*
Ravi Prakash
मन
मन
Happy sunshine Soni
सौ बरस की जिंदगी.....
सौ बरस की जिंदगी.....
Harminder Kaur
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
■ उल्टा सवाल ■
■ उल्टा सवाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
भूल कर
भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
Surinder blackpen
वो दिखाते हैं पथ यात्रा
वो दिखाते हैं पथ यात्रा
प्रकाश
सफर में महोब्बत
सफर में महोब्बत
Anil chobisa
गले से लगा ले मुझे प्यार से
गले से लगा ले मुझे प्यार से
Basant Bhagawan Roy
3150.*पूर्णिका*
3150.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"यह कैसा दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
अनमोल
अनमोल
Neeraj Agarwal
मेरी पहली चाहत था तू
मेरी पहली चाहत था तू
Dr Manju Saini
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
****शीतल प्रभा****
****शीतल प्रभा****
Kavita Chouhan
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
तेरी चाहत का कैदी
तेरी चाहत का कैदी
N.ksahu0007@writer
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
Rituraj shivem verma
Loading...