Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2023 · 1 min read

*कविता कम-बातें अधिक (दोहे)*

कविता कम-बातें अधिक (दोहे)
➖➖➖➖➖➖➖➖
1
कविता कम-बातें अधिक, करते हैं श्रीमान
कहलाते हैं आजकल, यह ही लोग महान
2
नोकझोंक में चल रहे, द्विअर्थी संवाद
क्रिया और सब प्रतिक्रिया, पहले से है याद
3
होता है हर कार्यक्रम, दो-दो घंटे देर
मेहमान सब कह रहे, यह कैसा अंधेर
4
बॅंटते हैं अब थोक में, शॉल और सम्मान
लगना लाइन में पड़ा, मुश्किल में है जान
5
लाखों रुपए हो रहा, कवियों को भुगतान
कहॉं बुलाना अब रहा, पेशेवर आसान
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
Sandeep Mishra
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
Rohit yadav
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
Ashok deep
श्री विध्नेश्वर
श्री विध्नेश्वर
Shashi kala vyas
आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है।
आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है।
पूर्वार्थ
हम तो यही बात कहेंगे
हम तो यही बात कहेंगे
gurudeenverma198
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
Paras Nath Jha
हमनवां जब साथ
हमनवां जब साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
Sarita Pandey
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
*Author प्रणय प्रभात*
Kabhi kabhi har baat se fark padhta hai mujhe
Kabhi kabhi har baat se fark padhta hai mujhe
Roshni Prajapati
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
वट सावित्री
वट सावित्री
लक्ष्मी सिंह
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
Aadarsh Dubey
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Destiny
Destiny
Sukoon
Khahisho ki kashti me savar hokar ,
Khahisho ki kashti me savar hokar ,
Sakshi Tripathi
छोटी सी दुनिया
छोटी सी दुनिया
shabina. Naaz
"ये कविता ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
Pravesh Shinde
दिल का दर्द आँख तक आते-आते नीर हो गया ।
दिल का दर्द आँख तक आते-आते नीर हो गया ।
Arvind trivedi
***
***
sushil sarna
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
Loading...