Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2017 · 1 min read

कविता और बेटियां

कविता और बेटियाँ
—————–
कवितायें और बेटियाँ होती हैं एक जैसी,
भावनाओं के समंदर मे जब संवेदनाओं की लहरें,
यथार्थ के धरातल से छू जाती हैं तो कविता बन जाती हैं,
कवितायें बनाई नहीँ जाती बन जाती हैं,
जैसे किसी घर मे बेटों की चाह पाले अपने मन मे,
जब सब कहते हैं की कोइ फर्क नहीँ पड़ता हमें,
बेटा हो या बेटी,
तब दिख जाती है उनके मन मे बेटों के लिये चाह,
इसी चाहना,ना चाहना के बीच से,
सबको मूक कर के जो आ जाती हैं,
एक दिन सबकी दुलारी हो जाती हैं बेटियाँ,
बस जैसे कवितायें मन की प्यास बुझाती हैं,
किसी कवि के मन की हर बात कह जाती हैं,
वैसे ही किसी परिवार को एक परिवार बनाती हैं बेटियाँ,
हर रिश्ते को एक मायने दे जाती हैं बेटियाँ,
किसी घर की,परिवार की,खुशियों की कविता बन जाती हैं बेटियाँ.

©कॉपीराइट अजय प्रताप सिंह चौहान

482 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
Ranjeet kumar patre
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
पिता
पिता
sushil sarna
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
सत्य कुमार प्रेमी
नारी
नारी
Nitesh Shah
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
चित्रगुप्त सत देव को,करिए सभी प्रणाम।
चित्रगुप्त सत देव को,करिए सभी प्रणाम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
प्रेम अटूट है
प्रेम अटूट है
Dr. Kishan tandon kranti
स्कूल चलो
स्कूल चलो
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🙅चुनावी साल🙅
🙅चुनावी साल🙅
*प्रणय प्रभात*
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
Smriti Singh
2657.*पूर्णिका*
2657.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
Loading...