Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Sep 2016 · 1 min read

कविता :– औरंगजेब इस सर जमीं का सबसे बड़ा नवाब था !!

कविता :– औरंगजेब इस सर जमीं का सबसे बड़ा नवाब था !!

पारदर्शिता का अनुयायी
जो सच का रखवाला था !
बाबर के कुल का चिराग
वो टोपी बुनने वाला था !!

जब से होश सम्हाला वो
खुद की मेहनत से खाया था !
राजकोष का पाई पाई
जन-जन में वर्शाया था !!

कौन यहाँ नायाब हुआ था
गद्दी में सतकर्मों से !
सत्ता तो सब नें छिनी थीं
मार धाड़ दुष्कर्मों से !!

ताजमहल की चकाचौंध में
जो अंधा था दासी में !
शाहजहाँ नें भी लुटवाया
राजपाठ अय्यासी में !!

बाप को बंदी करने में
ना सत्ता का कोई बहाना था !
घात लगाये दुश्मन से
बस अपना मुल्क बचाना था !!

गुनाह चाहे कैसा भी हो
गुनाह नहीँ तौला करते थे !
औरंगजेब के शाशन में तो
पत्थर भी बोला करते थे !!

सिकंदर भी जहां महान बना
वहाँ लाशों का सैलाब था !
औरंगजेब इस सर जमीं का
सबसे बड़ा नवाब था !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
2 Likes · 7 Comments · 901 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
Ravi Prakash
जीवन को
जीवन को
Dr fauzia Naseem shad
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
कवि रमेशराज
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
कर्म प्रधान
कर्म प्रधान
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
DrLakshman Jha Parimal
रवीश कुमार
रवीश कुमार
Shekhar Chandra Mitra
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
कवि दीपक बवेजा
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐अज्ञात के प्रति-130💐
💐अज्ञात के प्रति-130💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
तूफ़ान और मांझी
तूफ़ान और मांझी
DESH RAJ
गम खास होते हैं
गम खास होते हैं
ruby kumari
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
ढोंगी बाबा
ढोंगी बाबा
Kanchan Khanna
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
सागर ने भी नदी को बुलाया
सागर ने भी नदी को बुलाया
Anil Mishra Prahari
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
2801. *पूर्णिका*
2801. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ कोई तो बताओ यार...?
■ कोई तो बताओ यार...?
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...